पटना राजधानी ट्रेन में लूटपाट, RPF के सात जवान सस्पेंड, जांच के आदेश

गाजीपुर

केंद्र सरकार के लाख जतन के बाद भी ट्रेन में अपराध कम नहीं हो रहा है. बेहद वीआइपी मानी जाने वाली पटना राजधानी एक्सप्रेस में रविवार तड़के रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा के संसदीय क्षेत्र गाजीपुर के पास डकैती हो गई.

राजेंद्र नगर राजधानी एक्सप्रेस में भदौरा स्टेशन के पास दर्जनभर यात्रियों से नकदी, गहने, मोबाइल फोन सहित अन्य सामान लूट लिए गए. लूटपाट के बाद अपराधी चलती ट्रेन से उतर कर फरार हो गए. यह घटना जहां हुई वह देश के रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा के संसदीय क्षेत्र में पड़ता है.

ट्रेन दिल्ली से पटना जा रही थी. बताया जा रहा है कि यूपी के गहमर के पास सिग्नल नहीं होने की वजह से ट्रेन खड़ी थी. इस मामले में कोच अटेंडेंट पर भी मामला दर्ज किया गया है.

रेलवे मंडल के सीपीआरओ ने बताया कि यह चोरी की वारदात है. मामले की तेजी से जांच के आदेश दे दिए गए हैं. जब ट्रेन पटना पहुंची तब यात्रियों ने जंक्शन पर उतर कर प्रदर्शन किया. सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस से लोगों की काफी बहस भी हुई. लोगों ने रेलवे प्रशासन से लेकर पुलिस प्रशासन की लापरवाही और बदइंतजामी पर सवाल उठाए हैं.

यात्रियों से लूटपाट के आरोप में रेल पुलिस ने राजधानी एक्सप्रेस के कोच अटेंडेंट संजय पासवान को हिरासत में लिया है. वहीं ट्रेन की पूरी स्कॉर्ट पार्टी को निलंबित कर दिया गया है. ट्रेन जब पटना जंक्शन पहुंची तो यात्रियों ने जमकर हंगामा किया. रेल पुलिस का कहना है सिग्नल लाल होने की वजह से ट्रेन रुकी थी और इसी दौरान कुछ लोकल बदमाश ट्रेन में चढ गए और यात्रियों का सामान लेकर भाग गए. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

यात्रियों का कहना है कि ट्रेन के रनिंग स्टाफ ने उनकी मदद नहीं की, जबकि स्कोर्ट दस्ते के सामने ही बदमाश ट्रेन से कूदकर भागे. यात्रियों का आरोप है कि रनिंग स्टाफ की घटना में अपराधियों के साथ सांठगांठ भी हो सकती है. यात्रियों ने पटना जंक्शन पर हंगामा भी किया है.

रेल एसपी जीतेन्द्र मिश्र का कहना है कि अपराधी मुगलसराय स्टेशन के समीप ट्रेन में सवार हुए थे. घटना को अंजाम देकर दिलदारनगर के समीप गहमर स्टेशन पर उतर कर फरार हो गए. यात्रियों द्वारा बताए हुलिए के आधार पर अपराधियों को पकडऩे के लिए छापेमारी हो रही है.

Share With:
Rate This Article