बंद हो चुके नोटों को ठिकाने लगाने के लिए लोगों ने निकाला ये नया तरीका

दिल्ली

नोटबंदी के बाद बंद हुए पुराने 500 और 1000 रुपये के नोटों को आरबीआई की शाखाओं में जमा करने के लिए प्रवासी भारतीयों को छूट है, लेकिन इस सुविधा का लाभ भारत में रहने वाले लोग भी उठाने की फिराक में हैं. ऐसे तमाम लोग हैं, जो इन पुराने नोटों को कूरियर के जरिए विदेश भेज रहे हैं, जिससे बाद में इन्हें बदला जा सके. कस्टम डिपार्टमेंट की जांच में नोटबदली के इस नए तरीके का खुलासा हुआ है.

सरकार ने पिछले साल नवंबर में इन नोटों को बंद कर दिया था. प्रवासी भारतीयों (एनआरआई) को इन नोटों को बदलने के लिए 30 जून तक का समय दिया गया है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीमा शुल्क अधिकारियों ने कुछ मामले दर्ज किए है, जिनमें बंद नोटों को कूरियर के जरिए विदेश भेजा गया है. विभाग ने ऐसे 1 लाख रपये से अधिक नोट जब्त किए हैं. अधिकारी ने बताया कि लोग पुराने नोटों को कूरियर के जरिए विदेश भेज रहे हैं. वे किताब आदि के नाम पर कूरियर के जरिये नोट भेज रहे हैं.

इसका मकसद यह हो सकता है कि विदेश में उनके दोस्त या रिश्तेदार पुराने नोटों को बदलवा सकें. दो मामलों में पंजाब से ऑस्ट्रेलिया के लिए बुक कराए गए कुरियर में यह बताया गया कि इसमें किताब है. डाकघरों में विदेश भेजे जाने वाले पार्सलों पर निगाह रख रहे सीमा शुल्क अधिकारियों ने जांच में पाया कि उनमें पुराने नोट थे. इसी तरह कोरिया तथा संयुक्त अरब अमीरात भेजे जा रहे कूरियर में भी पुराने नोट मिले हैं. अधिकारी ने बताया कि कुल मिलाकर इन कूरियर से 1 लाख रुपये से अधिक के पुराने नोट जब्त किए.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment