हत्या के दो मामलों में 25 दोषियों को उम्रकैद की सजा, पढ़ें

हरियाणा में दो हत्‍याकांड में अदालत ने 25 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। इन लोगों को जुर्माने भी किया। यमुनानगर के मोहित राणा हत्याकांड में अदालत ने 14 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई। सभी दोषियों पर 25-25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। इसी तरह सिरसा में एक किसान की हत्‍या के मामले में अदालत ने 11 लोगों को उम्रकैद आैर 30-30 हजार रुपये की सजा सुनाई है।

माेहित राणा हत्‍याकांड में 14 को उम्रकैद
यमुनानगर की अदालत ने मोहित राणा हत्‍याकांड में 14 आराेपियों को 3 अप्रैल को दोषी करार दिया था।  27 नवंबर 2013 को रंजिश के कारण तीर्थ नगर निवासी मोहित राणा का जगाधरी बस स्टैंड से कुछ युवकों ने अपहरण कर लिया। अपहर्ता मोहित को किसी अज्ञात जगह पर ले गए, जहां उसके साथ पहले तो मारपीट की गई। फिर उसके हाथ पांव बांध कर उसे गाड़ी से घसीटा गया। बाद में वे खून से लथपथ मोहित का शव तीर्थ नगर में फेंक कर फरार हो गए थे।

पुलिस ने मोहित के पिता राज सिंह की शिकायत पर ताजकपुर निवासी रामजी लाल, थापर कालोनी के विशाल, संखेड़ा के सुखराम, पेपर मिल के अरुण, तीर्थ नगर के कश्मीरी लाल, बलबीर सिंह, अमित, अर्जुन, जयदेव, सोनू, सन्नी, मोनू, जयपाल व रवि के खिलाफ अपहरण कर हत्या का केस दर्ज किया था। राज सिंह पब्लिक हेल्थ में ड्राइवर की नौकरी करते हैं।

थाना सदर यमुनानगर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सभी को गिरफ्तार कर लिया था। 50 से ज्यादा लोगों की गवाही के बाद अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश संदीप गर्ग ने 3 अप्रैल को अदालत ने सभी 14 लोगों को दोषी करार दिया था।  शुक्रवार को फैसला सुनाते हुए अदालत ने सभी को उम्रकैद की सजा सुनाई। मृतक मोहित राणा के पिता राज सिंह ने कोर्ट के फैसले पर संतोष जताया है। वहीं दोषियों के परिजनों ने अदालत के फैसले को गलत बताया। उन्होंने कहा कि वे इस फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में अपील करेंगे।

किसान की हत्या मामले में 11 को उम्रकैद
उधर, सिरसा जिले के नाथूसरी चौपटा थाना के अंतर्गत गांव जोड़किया में किसान किरपाल सिंह की हत्या के मामले में अदालत ने 11 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। अदालत ने सभी दोषियों पर 30-30 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना अदा न करने पर एक साल की अतिरिक्त सजा काटनी होगी।

अभियोजन पक्ष के अनुसार गांव जोड़किया में 11 फरवरी 2013 को किरपाल सिंह का कुछ लोगों के साथ विवाद हो गया। इसके बाद जोड़किया निवासी दलीप, राजू, दलबीर सिंह, बुधराम, खारियां निवासी लीलूराम व वेदप्रकाश, सुलतानपुरिया निवासी जरनैल सिंह, झीड़ी निवासी राकेश, गुरलाभ सिंह, मंगालिया निवासी नरेश बागड़ी और बालासर निवासी कुलविंदर सिंह ने किरपाल सिंह पर लाठियों से हमला कर दिया और उसे पीट-पीटकर अधमरा कर दिया।

इसके बाद हमलावर फरार हो गए। परिजनों ने बेहोशी की हालत में किरपाल सिंह को सिरसा के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसकी मौत हो गई थी। किरपाल के बेटे प्रमोद कुमार की शिकायत पर पुलिस ने उक्‍त हमलावरों सहित 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। पुलिस ने जांच के बाद सभी हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया।

चार साल लंबी सुनवाई के बाद अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जगभूषण गुप्ता की अदालत ने बुधवार को 11 आरोपियों को दोषी ठहराया था। शुक्रवार को अदालत ने सभी 11 लोगों को उम्रकैद की सजा सुना दी।

Share With:
Rate This Article