रियो में गोल्ड जीतने वाली चैंपियन जेमिमा डोप टेस्ट में फेल

रियो ओलंपिक में महिला मैराथन का स्वर्ण पदक जीतकर केनियाई एथलेटिक्स में नया अध्याय जोड़ने वाली जेमिमा सुमगोंग प्रतियोगिता से इतर डोप परीक्षण में नाकाम रही है, रिपोर्टों में यह दावा किया गया है. यह 32 वर्षीय धाविका मौजूदा लंदन मैराथन चैंपियन भी है.

बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें अपने देश केनिया में अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ के परीक्षण में प्रतिबंधित ईपीओ के लिये पाजीटिव पाया गया है. बीबीसी ने आईएएएफ के बयान का हवाला दिया है जिसमें कहा गया है, हम पुष्टि करते हैं कि इस सप्ताह जेमिमा सुमगोंग से जुड़ा डोपिंगरोधी नियम के उल्लंघन का मामला सामने आया है.

इसमें कहा गया है, इस एथलीट का कीनिया में किसी नोटिस दिये बिना परीक्षण किया गया जिसमें वह ईपीओ के लिये पाजीटिव पायी गयी. सुमगोंग ने पिछले साल तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद लंदन मैराथन जीती थी. वह इसके बाद रियो ओलंपिक में भी स्वर्ण पदक जीतने में सफल रही थी और इस तरह से ओलंपिक में मैराथन का खिताब जीतने वाली पहली कीनियाई महिला एथलीट बनी थी.

Share With:
Rate This Article