BJP ने दिए शिवसेना से सुलह के संकेत, शाह ने किया उद्धव को फोन

सांसद रवींद्र गायकवाड पर एअर इंडिया की पाबंदी को लेकर शिवसेना झुकने को तैयार नहीं है और अब बीजेपी ने अपनी सहयोगी पार्टी को सुलह के संकेत दिए हैं.

सूत्रों की मानें तो बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को फोन किया. उन्होंने ठाकरे को 10 अप्रैल को होने वाली एनडीए की बैठक का न्योता दिया. बैठक 10 अप्रैल को दिल्ली में होनी है.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने एनडीए के नेताओं की बैठक 10 अप्रैल को शाम 6 बजे प्रवासी भवन चाणक्य पूरी बुलाई है. बैठक में उद्धव ठाकरे, चंद्र बाबू नायडू, प्रकाश सिंह बादल, रामविलास पासवान, अनुप्रिया पटेल, उपेन्द्र कुशवाह, रामदास अठावले समेत एनडीए के सभी घटक दलों के नेताओं को अमित शाह ने फ़ोन करके निमंत्रण दिया है.

राष्ट्रपति के उम्मीदवार पर हो सकता है विचार
सूत्रों की मानें तो बैठक में राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव के मद्देनजर राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों के नाम को लेकर भी चर्चा हो सकती है. राष्ट्रपति के उम्मीदवार की रेस में बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनहोर जोशी, प्रकाश सिंह बादल, पूर्व चीफ़ जस्टिस सदाशिवम के नाम है.

उपराष्ट्रपति के उम्मीदवार की रेस में सुषमा स्वराज, थावर चन्द गहलोत, नजमा हेपतुल्ला, हुकुमदेव सिंह यादव के नाम हैं, इसके अलावा घटक दलों के द्वारा सुझाए गए नामों पर भी चर्चा हो सकती है.

शिवसेना ने दी थी बहिष्कार की धमकी
इससे पहले शिवसेना ने कहा था कि अगर रवींद्र गायकवाड की हवाई यात्रा से पाबंदी नहीं हटी तो वो इस बैठक का बहिष्कार करेगी. पार्टी ने मुंबई से एअर इंडिया की उड़ानों को बाधित करने की भी धमकी दी थी. शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा था कि एअर इंडिया के कर्मचारी को चप्पल से पीटने पर रवींद्र गायकवाड के खिलाफ कत्ल की कोशिश का मामला दर्ज नहीं हो सकता.

गायकवाड का माफीनामा
वहीं, गायकवाड ने नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू को चिट्ठी लिखकर घटना पर खेद जाहिर किया था. गायकवाड संसद से माफी मांगने पर तो राजी हुए लेकिन उन्होंने एअर इंडिया से माफी मांगने से इनकार कर दिया था.

लोकसभा में गूंजा था मसला
गुरुवार को शिवसेना ने इस मसले पर लोकसभा में जमकर हंगामा किया. गायकवाड ने इस मसले पर संसद में बयान दिया. उनका दावा था कि उनपर लगी पाबंदी बतौर सांसद उनके अधिकारों का हनन है. मामले पर शोर-शराबा इतना बढ़ा कि नौबत हाथापाई तक पहुंच गई थी.

दोनों पार्टियों में मधुर नहीं रिश्ते
हालांकि रवींद्र गायकवाड को लेकर उपजा विवाद इकलौता मसला नहीं है जिसे लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच रिश्तों में कशीदगी है. शिवसेना महाराष्ट्र में फडनवीस सरकार पर अक्सर निशाना साधती रही है. हाल ही में हुए स्थानीय चुनावों में भी दोनों पार्टियों के बीच दरार खुलकर सामने आई थी.

Share With:
Rate This Article