सीरिया केमिकल अटैक: इन बच्चों की कहानी जानकर आप भी रो पड़ेंगे

इंसानियत को शर्मशार करने वाली 3 वर्षीय सीरियाई मासूम अयलान कुर्दी और 5 वर्षीय उमरान दकनीश के बाद अब जुड़वा सीरियाई मासूमों की तस्वीर ने एक बार फिर से दुनिया को झकझोर कर रख दिया है. इन मासूमों को यह भी पता नहीं कि आखिर उनको किस गुनाह की इतनी दर्दनाक सजा मिली है. केमिकल हमले में जान गंवाने वाले 9 माह के जुड़वा आया और अहमद के शव को बाहों में लेकर बिलखते पिता अब्देल हमीद अलयूसेफ की तस्वीर सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रही है.

वैश्विक मीडिया ने इस तस्वीर को प्रमुखता से प्रकाशित किया है. सीरिया के इडलिब में हुए विनाशकारी केमिकल हमले के बाद सामने आई इस तस्वीर ने एक बार फिर से दुनिया को दहलाकर रख दिया है. यह घटना कई हँसते-खेलते परिवार को ही लील गई. इसमें अब्देल हमीद का पूरा भरा परिवार ही खत्म हो गया. इस क्रूर हमले ने उनकी जिंदगी को अंधेरे से भर दिया. 9 माह के जुड़वा बच्चों को दफनाने कब्र में पहुंचे अब्देल हमीद पूरी तरह से टूट चुके हैं.

सीरिया केमिकल अटैक: इन बच्चों की कहानी जानकर आप भी रो पड़ेंगे
एक ही परिवार के 22 सदस्य एक साथ दफन
इन जुड़वा मासूमों को उस जगह दफनाया गया, जहां अब्देल के परिवार के 22 सदस्यों को सुपुर्द-ए-खाक किया जा रहा था. 9 माह के आया और अहमद ने अभी तक अपने और पराए का मतलब भी नहीं जाना था और क्रूर शैतानियत ने उनकी जिंदगी छीन ली. पिता की बाहों में मौत की नींद सो रहे इन मासूमों को देखकर पत्थर दिल इंसान भी पिघल जाएगा.

30 बच्चों समेत 100 से ज्यादा की गई जान
मानवता को शर्मसार कर देने वाली यह तस्वीर गृहयुद्ध की आग में झुलसे सीरिया के भयावह हालात को बयां करती है. इसके अलावा कई ऐसे गुमनाम मासूम हैं, जो अपनी जान गंवा चुके हैं. इस हमले में 30 बच्चों, 20 महिलाओं समेत 100 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 400 से ज्यादा लोग घायल हैं. मानवाधिकार संगठनों का कहना है कि मृतकों की संख्या में इजाफा हो सकता है.

दुनिया भर में हो रही कड़ी आलोचना
सीरिया में केमिकल हमले के बाद दिल दहला देने वाली तस्वीरें सामने आने के बाद दुनिया भर में कड़ी आलोचना हो रही है. सोशल मीडिया पर भी लोग इसकी तीखी निंदा कर रहे हैं. केमिकल हमले के बाद बुलाई गई संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपातकालीन बैठक में रूस को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा. दुनिया भर के देशों ने रूस की जमकर निंदा की है. हालांकि रूस सीरियाई सुरक्षा बलों का समर्थन जारी रखने पर अड़ा हुआ है.

केमिकल हमले को लेकर रूस और अमेरिका आमने-सामने
सीरिया में केमिकल हमले को लेकर रूस और अमेरिका आमने-सामने आ गए हैं. रूस ने केमिकल हमले के लिए सीरिया के विद्रोही गुटों को जिम्मेदार ठहराया है और सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद का समर्थन किया है, जबकि अमेरिका इसके लिए सीरियाई राष्ट्रपति को जिम्मेदार ठहरा रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि इस दर्दनाक हमले ने उनका नजरिया ही बदलकर रख दिया है. ट्रंप ने यहां तक कहा है कि अगर संयुक्त राष्ट्र सीरिया के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता है, तो वह अकेले ही कार्रवाई करेगा.

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment