सवालों में बायोलॉजी का पेपर, पूछा ‘दफनाना बेहतर है या जलाना?’

सीबीएसई बोर्ड ने छात्रों से बॉयोलॉजी के पेपर में जो प्रश्‍न पूछा है वह सवालों के घेरे में आ गया है। परिजनों इस पर सवाल खड़े किए हैं कि इस ऐसे प्रश्‍न से बॉयोलॉजी का क्या लेना देना है। कुछ ने तो केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को भी ट्विटर में टैग किया है।

हमारे सहयोगी हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, छात्रों और परिजनों ने बताया कि इस बाद बॉयोलॉजी का पेपर बहुत ही ट्रिकी था और इसमें बहूत ही कठिन सवाल पूछ गए थे। लेकिन इस पेपर में अंतिम संस्कार के लिए जो प्रश्‍न पूछा गया उसे लेकर लोग सवाल खड़ा कर रहे हैं।

पेपर का सेक्शन डी वायु प्रदूषण को लेकर था और इसमें छात्रों को जवाब देना था कि वायु प्रदूषण को नियंत्रण में रखने के लिए हमें शवों को दफनाना चाहिए या जलाना चाहिए।

क्या यह सवाल भी बॉयोलॉजी का है? क्या सीबीएसई दफनाने या न दफनाने को बढ़ावा देना चाहता है? ऐसे ही सवाल लोग जावड़ेकर को टैग कर पूछ रहे हैं।

हालांकि शिक्षकों का कहना है वायु प्रदूषण बॉयोलॉजी के पाठयक्रम का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि पेपर में पूछे गए ज्यादातर प्रश्न टेक्सबुक से ही हैं।

वायु प्रदूषण वाले सेक्शन के जवाब के लिए छात्रों को 10 से 12 नंबर निर्धारित है। इस प्रश्न मे छात्रों को पूछे एक विषय पर व्याखा करना था। यह भी बताया जा रहा है कि कुछ सवाल तो रिपीट किए गए हैं और वह पिछले साल भी पूछ गए थे।

बॉयोलॉजी इस पेपर का सामना करने वाले ज्यादातर छात्रों का कहना था कि पेपर बहुत ही उलझाऊ था।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment