नौ गोलियां खाने वाले चेतन चीता घर लौटे, दो महीने से AIIMS में चल रहा था इलाज

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के साथ एनकाउंटर में 9 गोलियां खाने वाले CRPF कमांडेंट चेतन कुमार चीता की जान बच गई है। दो महीने तक कोमा में रहने के बाद चेतन अब बात कर रहे हैं। एम्स के डॉक्टर्स इसे चमत्कार कह रहे हैं। केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने चेतन से बुधवार को मुलाकात की। रिजिजू ने कहा, “चेतन की हालत अब बहुत बेहतर है। यह चमत्कार है। जैसी हालत में उन्हें श्रीनगर से यहां लाया गया था, यह सोच पाना बड़ा मुश्किल था कि वह मुझसे बात करेंगे।”

दाहिनी आंख फूट गई थी
– चेतन चीता एम्स ट्रॉमा सेंटर के आईसीयू में एक महीने तक रहे। वहां के डॉक्टर्स का कहना है, “वह अब फिट हैं और उन्हें डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। जब 45 साल के चेतन को यहां लाया गया था तो उनसे सिर में बुलेट इंजरीज थीं। उनका ऊपरी अंग बुरी तरह फ्रैक्चर था और उनकी दाहिनी आंख फूट गई थी।”
– एक डॉक्टर ने बताया, “उनका जीसीएस स्कोर (ब्रेन की चोन की गंभीरता को मापने वाला टेस्ट) M3 था, वह डीप कोमा में थे। अब उनका जीसीएस स्कोर M6 है। अब अब पूरे होशो-हवास में हैं और उनके सभी अंग सही काम कर रहे हैं।”
– ट्रॉमा सर्जरी एंड क्रिटिकल केयर के प्रोफेसर डॉ. अमित गुप्ता ने कहा, “हम चेतन चीता को बुधवार को घर भेजने की प्लानिंग कर रहे हैं। इनके ठीक होने की स्पीड किसी चमत्कार से कम नहीं है।”

कश्मीर के बांदीपोरा में हुआ था एनकाउंटर
– कश्मीर के बांदीपोरा डिस्ट्रिक्ट में 14 फरवरी को हाजिन एरिया में आतंकियों के साथ एनकाउंटर हुआ था, जिसमें 3 जवान शहीद हुए थे और एक आतंकी मारा गया था। एनकाउंटर में चीता भी बुरी तरह जख्मी हुए थे। उन्हें 9 गोलियां लगी थीं।
– चेतन को पहले श्रीनगर के मिलिट्री हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां ब्लड को रोकने के लिए मेडिसिन दी गई थीं। बाद में उन्हें प्लेन से AIIMS ट्रॉमा सेंटर दिल्ली रेफर कर दिया गया था।

पत्नी ने क्या कहा?
– चेतन चीता की पत्नी उमा सिंह ने कहा, “फिटनेस को लेकर CRPF कमांडेंट के लगाव और उनके स्ट्रॉन्ग विलपावर ने उन्हें ठीक में मदद की।”
– चेतन ने आतंकियों से लड़ते हुए 16 राउंड फायर किए थे और अबू हारिस नाम के आतंकी को मार गिराया था।

Share With:
Rate This Article
No Comments

Leave A Comment