पंजाब सरकार ने पूर्व सेनाध्यक्ष जेजे सिंह की सुरक्षा में की कटौती

पटियाला

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सरकार ने वीआईपी सुरक्षा की समीक्षा के बाद वीआईपी लोगों की सुरक्षा में कटौती करनी शुरू कर दी है. इस कड़ी में पूर्व सेना प्रमुख और शिरोमणि अकाली दल के नेता जनरल जेजे सिंह की सुरक्षा में कटौती कर दी गई है.

पटियाला शहरी हलका से कैप्टन के खिलाफ अकाली दल के उम्मीदवार बने जनरल जे.जे. सिंह को तत्कालीन सरकार ने 6 से ज्यादा सुरक्षाकर्मी दे रखे थे जिन्हें वापस लेने का फैसला ले लिया गया है.

पिछली सरकार के दौरान जेजे सिंह की सुरक्षा में तैनात किए सुरक्षा कर्मियों को वापस बुला लिया गया है, हालांकि केन्द्र सरकार की तरफ से दी गई सुरक्षा बरकरार है.

इतना ही नहीं सत्ताधारी पार्टी और पूर्व सेनाध्यक्ष का रुतबा किसी से छुपा नहीं है. पुलिस प्रशासन हो या राजनीति में हर जगह उनका काफी नाम है, लेकिन उनके सारे दमखम और कैप्टन से लगातार तीखी जुबानी जंग के बावजूद जनरल सिंह चुनाव में अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए. ऐसे में तय था कि सरकार के बदलने के साथ ही हालात में भी बदलाव आएंगे.

कांग्रेस सरकार ने फिजूलखर्ची रोकने का हवाला देते हुए उनकी सुरक्षा में कटौती कर दी और इस पर जनरल कुछ न कर पाए. एस.एस.पी. एस. भूपति ने बताया कि सरकार के आदेश पर पटियाला जिले में विभिन्न नेताओं व अफसरों की सुरक्षा में लगे 37 सुरक्षाकर्मी को हटाने के आदेश दिए गए हैं, इसमें जनरल की सुरक्षा में लगे आर्म्ड बटालियन के 10 सुरक्षाकर्मी भी शामिल हैं.

बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही कई बड़े बदलाव किए हैं, जिसमे उन्होंने पंजाब में अफरशाही में कई फेर बदल किए हैं. इसके अलावा मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पुलिस व प्रशासनिक विभाग में भी भारी बदलाव किए है. कई बड़े आइएएस के भी तबादलों की खबर सामने आई हैं.

Share With:
Rate This Article