सरकार को टैक्‍स के रूप में मिले 17.10 लाख करोड़ रुपए, 6 वर्षों में सबसे ज्यादा

दिल्ली

सरकार के खजाने में समाप्त वित्त वर्ष 2016-17 में तय लक्ष्य से ज्यादा 17.10 लाख करोड़ रुपये का टैक्स संग्रह हुआ है. सरकार ने एक फरवरी 2017 को पेश 2017-18 के बजट में पिछले वित्त वर्ष के लिये कर संग्रह 16.97 लाख करोड़ रुपये रहने का संशोधित अनुमान लगाया है.

वित्त मंत्रालय ने एक वक्तव्य में कहा है कि 17.10 लाख करोड़ रुपये का कर संग्रह एक साल पहले के मुकाबले 18 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है. एक साल पहले 2015-16 में वास्तविक कर प्राप्ति 14.55 लाख करोड़ रुपये रही थी. राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने कहा, ‘कुल निवल कर राजस्व संग्रह 18 प्रतिशत बढ़कर 17.10 लाख करोड़ रुपये हो गया. पिछले छह साल में यह सबसे ज्यादा है.’

प्रत्यक्ष कर संग्रह अप्रैल-मार्च अवधि में 14.2 प्रतिशत बढ़कर 8.47 लाख करोड़ रुपये, अप्रत्यक्ष कर संग्रह 22 प्रतिशत बढ़कर 8.63 लाख करोड़ रुपये हो गया. मंत्रालय के अनुसार वर्ष 2016-17 में निवल प्रत्यक्ष कर संग्रह 8.47 लाख करोड़ रुपये रहा है जो कि वर्ष के लिये रखे गये संशोधित अनुमान की शत प्रतिशत प्राप्ति है.

इसी प्रकार मार्च 2017 तक अप्रत्यक्ष कर संग्रह संशोधित लक्ष्य का 101.35 प्रतिशत रहा है. अप्रत्यक्ष कर संग्रह के लिये 8.5 लाख करोड़ रुपये का संशोधित अनुमान लगाया गया.

Share With:
Rate This Article