CM वीरभद्र सिंह के मनी लॉन्ड्रिंग केस में 27Cr का फार्महाउस अटैच

एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) में सोमवार को हिमाचल प्रदेश के सीएम वीरभद्र सिंह का एक फॉर्महाउस जब्त कर लिया। इसकी कीमत 27 करोड़ बताई जा रही है। ईडी ने ये कार्रवाई प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत की। बताया जा रहा है कि फॉर्म हाउस को वीरभद्र के बेटे के मालिकाना हक वाली कंपनी मैपल ने खरीदा था।

ब्लैक मनी से खरीदी गई प्रॉपर्टी
– ईडी के एक अफसर का कहना है कि प्रॉपर्टी खरीदने के लिए ब्लैक मनी को खपाया गया।
– ईडी का ये भी दावा है कि प्रॉपर्टी की कीमत एक करोड़ दिखाई गई थी। जबकि 5.47 करोड़ रुपए कैश में दिए गए।
– पिछले हफ्ते वीरभद्र सिंह के खिलाफ सीबीआई ने आय से ज्यादा संपत्ति मामले में चार्जशीट दायर की थी। हाईकोर्ट ने भी उन्हें किसी भी तरह की राहत देने से इनकार कर दिया था।
– बता दें सीबीआई ने सितंबर, 2016 को प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत वीरभद्र, उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह, बीमा एजेंट आनंद चौहान और उसके सहयोगी चुन्नी लाल के खिलाफ केस दायर किया था।

क्या है मामला?
– वीरभद्र सिंह 2009 से 2012 तक केंद्र सरकार में मंत्री रहे थे। इस दौरान उन पर आय से ज्यादा 6.01 करोड़ की प्रॉपर्टी बनाने का आरोप है।

Share With:
Rate This Article