युद्ध के हालात हुए तो पाकिस्तान को पहले हमला करने का मौका नहीं देगा भारत!

वॉशिंगटन

पाकिस्‍तानी विशेषज्ञों ने अंदेशा जताया है कि भाजपा के बढ़ते प्रभाव के चलते भारत अपनी परमाणु नीति में बदलाव कर सकता है. पाकिस्‍तान की ओर से डर जताया गया है कि भारत परमाणु हथियारों को जवाबी कार्रवाई में उपयोग करने की अपनी रणनीति को पहले हमला करने में बदल सकता है.

पाकिस्‍तानी अखबार द डॉन ने एक रिटायर्ड पाकिस्‍तानी जनरल के हवाले से लिखा है, ”भाजपा सरकार के अतिवादी हिंदुत्‍व एजेंडे की पृष्‍ठभूमि में यह बदलाव हो रहा है.” रिटायर्ड जनरल एहसान उल हक ने लिखा, ”भारत का पुनर्विचार उकसावे वाली कार्रवाई की शृंखला में नया कदम है.”

हक ने डॉक्‍टर नईम सलिक की किताब ‘लर्निंग टू लिव विद द बॉम्‍ब, पाकिस्‍तान: 1998-2016’ के लॉन्‍च के मौके पर यह बयान दिया. वहीं, भारतीय परमाणु मामलों के जानकारों के मुताबिक, भारत अब पाकिस्‍तान को पहले परमाणु हथियार इस्‍तेमाल नहीं करने देगा और भारत की कार्रवाई पारंपरिक नहीं होगी.

विशेषज्ञों का मानना है कि मौजूदा हालातों को देखते हुए भारत पाकिस्तान को परमाणु हमला करने का मौका ही नहीं देगा. भारत जो हमला कर सकता है वो शहरी आबादी को नुकसान पहुंचाने के मकसद से करे इसकी संभावना कम है. भारत पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में रखे परमाणु हथियारों के ठिकाने को निशाना बना सकता है.

Share With:
Rate This Article