ग्रेटर नोएडा में नहीं थम रहे नस्लीय हमले, नाइजीरियन लड़की को ऑटो से उतारकर पीटा

ग्रेटर नोएडा

यूपी के ग्रेटर नोएडा में नस्लीय भेदभाव से जुड़ी घटनाएं लगातार जारी हैं. बुधवार को भी नाइजीरिया की एक लड़की को कथित तौर पर थप्पड़ मारा गया है. खबरों के मुताबिक, यह घटना यहां के एलस्टोनिया अपार्टमेंट के पास घटी.

इससे पूर्व इसी इलाके में 4 लड़कों पर हमले की खबरें सामने आई थीं. इस मामले में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्य सरकार से बात की है, जिसके बाद उचित जांच कराने की बात सामने आई. पुलिस प्रशासन मामले में पूरी तरह मुस्तैद दिखा.

बताया जा रहा है कि स्थानीय लोगों ने इन लड़कों को इस आरोप में पीटा था कि नाइजीरियाई छात्रों की वजह से इलाके में ड्रग्स का कारोबार बढ़ा है और इसी से एक छात्र की मौत हुई है. इस मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है.

अफ्रीकी मूल के लोगों पर हमले का यह पहला या इकलौता मामला नहीं है दिल्ली में अफ्रीकी लोगों पर हो रहे हमले को लेकर पिछले साल छात्रों के एक ग्रुप ने जंतर-मंतर पर एक विरोध प्रदर्शन किया था.

1 मई, 2016- साउथ दिल्ली के वसंत कुंज के पास स्थित किशनगढ़ गांव में कांगो का एक युवक एम टी ओलीवा मारा गया. स्थानीय लोगों से किसी बात पर झगड़ा हुआ. 20 मीटर तक दौड़ा कर एक ग्रुप ने उन्हें पत्थरों से बुरी तरह पीटा था, जिससे उनकी जान चली गई.

2 मई, 2016- दक्षिण दिल्ली के राजपुर खुर्द गांव में एक दर्जन अफ्रीकी लोगों पर हमला हुआ. 4 पुरुष और दो औरतें घायल. स्थानीय लोगों ने रहन-सहन के ढंग पर की थी आपत्ति.

3 अक्तूबर, 2014- राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर एक बदमाश ने कुछ अफ्रीकी छात्रों पर हमला बोल दिया. सीसीटीवी कैमरे के मुताबिक, 3 छात्रों के साथ मारपीट हुई. कोई मदद के लिए सामने नहीं आया. बाद में एक CISF जवान ने भीड़ को हटाया.

4 जनवरी, 2014- दिल्ली के खिड़की एक्सटेंशन में हमला हुआ जहां काफी अफ्रीकी समुदाय के लोग रहते हैं. AAP MLA सोमनाथ भारती की अगुवाई में एक भीड़ ने अफ्रीकी मूल की महिला पर हमला किया. शिकायत थी कि यहां सेक्स और ड्रग रैकेट चलता है. 2 नाइजीरियाई और 2 युगांडा की महिलाओं को भीड़ ने घेर लिया और उनके साथ मारपीट की.

Share With:
Rate This Article