इस बार ‘झुलसा’ देगी गर्मी, रिकॉर्ड तोड़ेगा पारा

मार्च के महीने में ही गर्मी ने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। गुजरात के अहमदाबाद में भीषण गर्मी के कारण ‘येलो अलर्ट’ जारी कर दिया गया है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में पारा रेकॉर्ड तोड़ने लगा है। वहीं दिल्ली में गर्मी की तपिश महसूस की जाने लगी है। दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में पिछले दस दिनों में ही तापमान 13 डिग्री तक उछल गया है। मौसम विभाग ने अगले दो महीनों में पूरे देश में औसत से अधिक तापमान रहने की संभावना जताई है। विभाग के मुताबिक मार्च से मई के बीच कई राज्यों को लू के थपेड़े झेलने पड़ेंगे।

गुजरात में येलो अलर्ट
गुजरात का अहमदाबाद शहर पहले ही तेज गर्म हवाएं झेल रहा था, सोमवार को तापमान भी नए हाई पर पहुंच गया। शहर का अधिकतम तापमान 42.8 डिग्री दर्ज किया गया। अहमदाबाद नगर निगम ने गर्मी को देखते हुए ‘येलो अलर्ट’ की घोषणा कर दी है और हीट ऐक्शन प्लान (HAP) पर काम शुरू कर दिया है, ताकि लू और गर्मी से होने वाली मौतों और डीहाइड्रेशन के मामले कम किए जा सकें। 43.3 डिग्री के साथ दीसा सबसे गर्म शहर रहा। अहमदाबाद गुजरात का चौथा सबसे गर्म शहर बना। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में सोमवार को 38.4 डिग्री तापमान रहा। वहीं राजधानी दिल्ली में सोमवार को न्यूनतम तापमान 21.8 डिग्री रहा, जो सामान्य से 4 डिग्री अधिक था।

मुंबई में मार्च में ही गर्मी का रिकॉर्ड
सूरज की चढ़ीं त्योरियां मुंबईकरों को झुलसा देने वाली गर्मी से रू-ब-रू करा रही हैं। दिन का तापमान रिकॉर्ड स्तर की ओर बढ़ रहा है। परीक्षा के दिनों में छोटे-बड़े विद्यार्थियों की दोहरी परीक्षा हो रही है। मौसम विज्ञानियों ने इसे गर्मी का आगाज बताया है, तो डॉक्टरों ने लोगों से सतर्क रहने की अपील की है। सोमवार को शहर का अधिकतम तापमान 38.4 डिग्री और न्यूनतम 21.5 डिग्री दर्ज किया गया, जबकि आर्द्रता 65 प्रतिशत रही। मौसम विभाग के अनुसार ईस्टर्नली विंड का असर लगातार बना हुआ है, जिससे ऐसी स्थिति है। अगले एक-दो दिनों में तापमान सामान्य हो सकता है। डॉक्टरों के अनुसार स्ट्रीट फूड और फुटपाथ की दुकानों से जूस व अन्य दूसरी ठंडी चीजें पीने से बचना चाहिए।

दिल्ली में अचानक चढ़ा पारा
वहीं दिल्ली का अधिकतम तापमान 36.7 डिग्री दर्ज किया गया, जो सामान्य से 5 डिग्री अधिक था। 1 मार्च को दिल्ली का अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस था, तो वहीं 15 मार्च को अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। 23 मार्च को 38 तापमान डिग्री सेल्सियस रहा, महज 8 दिनों में दिल्ली-एनसीआर में पारा 8 डिग्री तक चढ़ गया।

मौसम विभाग ने कुछ दिन पहले जारी अपने अनुमान में कहा था कि देश के उत्तर-पश्चिम इलाके में गर्मी का असर सबसे ज्यादा रहने का अनुमान है, जहां तापमान सामान्य से कुछ डिग्री अधिक रहेगा। मौसम विभाग के मुताबिक, जिन क्षेत्रों में सामान्य से अधिक तापमान रहता है, वह ‘कोर हीटवेव जोन’ में आता है यानी वहां अत्यधिक गर्म हवाएं चलती हैं। ‘कोर हीटवेव जोन’ में पंजाब, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और तेलंगाना इस क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं।

इस क्षेत्र में महाराष्ट्र का मराठवाड़ा, सेंट्रल महाराष्ट्र और विदर्भ और आंध्र का तटीय क्षेत्र भी शामिल है। मौसम विभाग ने लू से निपटने को उत्तर-पश्चिमी राज्यों और एनडीएमए के अधिकारियों के लिए 28-29 मार्च को दिल्ली में एक कार्यशाला भी आयोजित की है। मौसम विभाग ने अगले महीने से उत्तर भारत में लू के चलने का अनुमान जताया है मौसम विभाग लू को लेकर क्षेत्रवार दैनिक और साप्ताहिक अलर्ट भी जारी करेगा। विभिन्न राज्यों में स्थित केंद्रों के जरिए भी क्षेत्र आधारित लू अलर्ट जारी किए जाएंगे।

मौसम विभाग के मुताबिक, 1901 के बाद 2016 सबसे ज्यादा गर्म साल रहा है। जब राजस्थान के पहलोड़ी में तापमान 51 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। पिछले साल, 1600 लोगों की गर्मी के कारण मौत हो गई थी। इनमें से 700 मौतें लू के कारण हुई थीं। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में सबसे अधिक- 400 लोग गर्मी के कारण मारे गए थे। विभाग ने बताया कि, 1901 के बाद जनवरी 2017 आठवां सबसे गर्म महीना रहा है। फिलहाल देश के विभिन्न हिस्सों में गर्मी ने जो रुख दिखाना शुरू किया है उससे यही अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बार देश में भीषण गर्मी पड़ेगी।

Share With:
Rate This Article