उत्तर प्रदेश सरकार का बयान- लीगल बूचड़खानों को डरने की जरूरत नहीं है

लखनऊ

यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई को लेकर स्थिति स्पष्ट की है. यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि सिर्फ अवैध बूचड़खानों पर ही कार्रवाई की जा रही है. वैध बूचड़खानों पर कोई कार्रवाई कर ही नहीं सकता.

उन्होंने बताया, वैध बूचड़खानों पर कार्रवाई करनेवालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे. वैध बूचड़खानों को डरने की कोई जरूरत नहीं है. सिर्फ अवैध बूचड़खानों को ही बंद करने को कहा गया है. उन्होंने साफ किया कि मुर्गा या अंडा बेचनेवालों दुकानों को बंद करने के आदेश नहीं है.

अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई को लेकर यूपी में मीट विक्रेता बेमियादी हड़ताल पर है. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ समेत कई दूसरे इलाकों में मीट मछली खाने वालों को आज दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि बूचड़खानों पर हो रही कार्रवाई के विरोध में मांस विक्रेताओं की हड़ताल में मटन और चिकन विक्रेताओं के बाद अब मछली कारोबारियों ने भी इस हड़ताल में शामिल होने का ऐलान किया है. प्रदेश में हड़ताल की वजह से मांस परोसने वाले होटल अब बंदी की कगार पर पहुंच गए हैं.

भाजपा ने अपनी चुनाव घोषणापत्र में सत्ता में आने पर प्रदेश के सभी यांत्रिक बूचड़खानों को बंद करने का वादा किया था. इसे जमीन पर उतारने की कवायद के तहत प्रदेश की आदित्यनाथ योगी सरकार ने कल एक बयान में कहा, ‘प्रदेश में संचालित अवैध पशु वधशालाओं को बन्द कराना एवं यांत्रिक पशु वधशालाओं पर प्रतिबन्ध वर्तमान सरकार की प्राथमिकताओं में है.’

Share With:
Rate This Article