‘मन की बात’ में PM की अपील, एक दिन पेट्रोल-डीजल का इस्तेमाल करना छोड़ें लोग

दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रिववार को 30वें मन की बात कार्यक्रम के जरिये देश की जनता को संबोधित किया. रेडियो और दूरदर्शन पर प्रसारित इस कार्यक्रम की शुरुआत में पीएम मोदी ने पड़ोसी देश बांग्लादेश को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी और कहा कि दोनों देश अच्छे मित्र हैं.

प्रधानमंत्री ने इसके साथ ही अमर शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को भी श्रद्धांजलि दी. पीएम मोदी ने कहा, इन तीनों युवकों से ब्रिटिश सरकार डरती थी. ये सेनानी देश के लिए जिए और देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए.

पीएम मोदी ने साथ ही कहा, ‘देश के युवाओं से अनुरोध है जब भी समय मिले भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की समाधि पर जरूर जाएं.’ बता दें कि 23 मार्च, 1931 को इन स्वतंत्रता सेनानियों को अंग्रेजी हुकूमत ने फांसी दे दी थी.

पीएम मोदी ने इसके साथ ही महात्म गांधी को भी याद करते हुए कहा, ‘हम चंपारण सत्याग्रह की 100वीं वर्षगांठ मनाने जा रहे हैं. 1917 में भारत लौटने पर महात्म गांधी चंपारण गए थे. वहां से सत्याग्रह की प्रेरणा मिली. यह चंपारण सत्याग्रह का शताब्दी वर्ष है. भारत की आज़ादी के आंदोलन में, गांधी विचारशैली का प्रकट रूप पहली बार चंपारण में नजर आया.’

वहीं, देश के विकास में सभी देशवासियों के योगदान को रेखांकित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘सवा-सौ करोड़ देशवासियों की ये बदलाव की चाह, बदलाव का प्रयास ही है, जो न्यू इंडिया की मज़बूत नींव डालेगा.’

उन्होंने कहा, ‘सभी देशवासी अगर संकल्प करें और मिलकर कदम उठाते चलें, तो न्यू इंडिया का सपना हमारे सामने सच हो सकता है. हर कोई अपने नागरिक धर्म और कर्तव्य का पालन करे, यही अपने आप में न्यू इंडिया की एक अच्छी शुरुआत बन सकता है.’

पीएम मोदी ने साथ ही कहा, ‘अगर हर नागरिक संकल्प करे कि मैं ट्रैफिक नियमों का पालन करूं, अगर हर नागरिक संकल्प करे कि मैं मेरी ज़िम्मेवारियों को पूरी ईमानदारी के साथ निभाऊंगा, अगर हर नागरिक संकल्प करे कि सप्ताह में एक दिन मैं पेट्रोल-डीजल का उपयोग नहीं करूंगा. तो आप देखिए ‘न्यू इंडिया’ का सपना जो सवा-सौ करोड़ देशवासी देख रहे हैं, वो अपनी आँखों के सामने साकार होता देख पाएंगे.’

मन की बात में पीएम मोदी ने कालेधन के खिलाफ लड़ाई का भी जिक्र किया. पीएम मोदी ने यहां कहा, ‘काले धन के खिलाफ लड़ाई आगे बढ़ाने के लिए देशवासी एक वर्ष में 2500 करोड़ डिजिटल लेन-देन करने का संकल्प कर सकते हैं क्या? इससे आप देश की सेवा करते हुए काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के एक वीर सैनिक बन सकते हैं.’

खाने की बरबादी रोकने का आह्वान करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘हम जरूरत से ज्यादा चीजें प्लेट में ले लेते हैं और फिर जूठन छोड़ देते हैं. हमने कभी सोचा है कि अगर जूठन न छोड़ें तो कितने गरीबों का पेट भरा जा सकता है.’

Share With:
Rate This Article