छुट्टियां मनाने हिमाचल जा रहे लोगों के लिए खुशखबरी, जून में मनाली-लेह रोड पर दौड़ेंगी गाड़ियां

मनाली–लाहौल को कुल्लू से जोड़ने वाले व गर्मियों में सैलानियों को बर्फ के दीदार करने वाले रोहतांग दर्रे को मई में बहाल कर दिया जाएगा। रोहतांग बहाली बीआरओ की प्राथमिकता में शामिल है। दर्रा बहाल होते ही सामरिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण मनाली-लेह मार्ग की बहाली युद्ध स्तर पर की जाएगी। सीमा सड़क संगठन के कार्यकारी कमांडर लेफ्टिनेंट कर्नल मयंक मेहता गुलाबा में मनाली-लेह मार्ग का पूजा-पाठ कर विधिवत शुरुआत करने के बाद मनाली से 27 किलोमीटर दूर राहलाफाल में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मनाली की ओर से राहलाफाल और लाहुल की ओर से सिस्सू से रोहतांग दर्रे पर चढ़ाई की गई है।

सड़क पर बर्फ के लगे ढेर की ओर इशारा करते हुए मेहता ने कहा कि भारी बर्फबारी के बावजूद बीआरओ रोहतांग मार्ग को मई महीने में तथा मनाली लेह मार्ग को जून महीने में बहाल कर लेगा। मनाली की ओर से 40 जवानों के साथ आठ मशीने बर्फ हटाने में जुटी हुई हैं, जबकि इतनी ही मशीनें लाहुल की ओर भी सड़क बहाली को अंजाम दे रही हैं। मनाली-लेह मार्ग के सरचू तक दीपक परियोजना की 70 आरसीसी 222 किमी लंबी सड़क को बहाल करने में जुट गई है। बीआरओ ने सर्दियों में भी लाहुल घाटी में काम जारी रखा है और सड़कों को बहाल रखने का प्रयास किया है। इस अवसर पर बीआरओ अधिकारी अविरल जेन सहित दर्जनों आफिसर व जवान उपस्थित रहे।

Share With:
Rate This Article