जाट आंदोलन के चलते प्रदेश पर बढ़ा आर्थिक बोझ, जनता पर पड़ सकता है असर

चंडीगढ़

भले ही सरकार और जाट नेताओं के बीच सहमति बन गई हो, लेकिन इस बार भी जाट आंदोलन के चलते हरियाणा पर काफी आर्थिक बोझ पड़ा है.

अनुमान के मुताबिक, पहले से ही कर्ज के बोझ तले दबे हरियाणा पर इस आंदोलन से करीब 250 करोड़ रूपए का बोझ पड़ा है.

हालांकि, हरियाणा के गृह सचिव का कहना है कि इस आंदोलन से प्रदेश पर कितना आर्थिक बोझ पड़ा है इसका सही आंकलन करना मुश्किल है. लेकिन इससे प्रदेश की जनता पर आर्थिक बोझ बढ़ेगा. वहीं, आंदोलन के दौरान पैरामिलिट्री फोर्स की तैनाती पर भी काफी खर्च हुआ है.

Share With:
Rate This Article