भारत लौटे पाकिस्तान में लापता हुए दोनों मौलवी, परिवार ने ली राहत की सांस

पिछले दिनों पाकिस्तान में संदिग्ध रूप से लापता हुए भारत के दो मौलवी सुरक्षित भारत लौट आए हैं। यह दोनों सुबह 11 बजे कराची से भारत पहुंचे। इसके बाद अब यह दोनों विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिलने जाएंगे।

वीडियो देखने के लिए क्लिक करें


बता दें कि हजरत निजामुद्दीन औलिया दरगाह के दो मौलवी आसिफ अली निजामी और नाजिम अली निजामी 5 दिन पहले लाहौर हवाई अड्डे से गायब हो गए थे। जब वो कराची नहीं पहुंचे तो इसकी शिकायत दर्ज करवाई गई और भारत में भी उनके परिजनों ने विदेश मंत्रालय से मदद की गुहार लगाई।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने यह मुद्दा पाकिस्तान के समक्ष उठाया जिसके बाद दोनों की तलाश तेज हो गई और शनिवार देर शाम दोनो कराची में पाए गए। वैसे बीते चार दिनों तक वे कहां गायब रहे, इस बारे में कोई ठोस खबर नहीं मिल पाई है।

माना जा रहा है कि उनके अचानक गायब होने में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ है। जिस तरह से हवाई अड्डे से उन्हें गायब किया गया, उसे कोई अन्य संगठन अंजाम नहीं दे सकता। उनकी गुमशुदगी पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शनिवार को प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज से बात की। उसके कुछ ही घंटे बाद दोनों को कराची में देखा गया।

देर शाम पाकिस्तान सरकार ने भारत को बता दिया कि आसिफ निजामी और नाजिम निजामी को खोज लिया गया है और उन्हें कराची लाया गया है। यह सूचना पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भारतीय उच्चायोग को दी है।

इसके पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्विटर पर बताया कि उन्होंने पीरजादों की गुमशुदगी के बारे में सरताज अजीज से बात की है। अजीज ने उन्हें पूरा भरोसा दिलाया है कि पाकिस्तानी एजेंसियां उन्हें खोज निकालने की पूरी कोशिश करेगी। जब सुषमा ने अजीज को फोन किया तब वह लंदन में थे।

इस बातचीत के कुछ ही देर बाद पाकिस्तान की मीडिया में यह खबर दिखाई जाने लगी कि दिल्ली स्थित निजामुद्दीन दरगाह के दोनों पीरजादे मिल गए हैं।

एक टीवी चैनल ने यह खबर चलाई कि एक पीरजादा को सिंध में देखा गया, जबकि दूसरे को कराची में। निजामुद्दीन दरगाह के ये दोनों पीरजादे पाकिस्तान में सूफी दरगाहों की धार्मिक यात्रा पर गए थे। लाहौर में दाता दरबार दरगाह पर चादर चढ़ाने के बाद कराची लौटते वक्त वे गायब हो गए।

Share With:
Rate This Article