इलाहाबाद: BSP नेता मोहम्मद शमी की गोली मारकर हत्या

यूपी में बेखौफ बदमाशों ने योगी सरकार के शपथ ग्रहण के कुछ घंटे बाद ही इलाहाबाद में बीएसपी के एक बड़े नेता पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर उन्हें मौत के घाट उतार दिया। इस सनसनीखेज वारदात ने सूबे की नई सरकार के सामने कानून व्यवस्था को दुरुस्त किये जाने के दावों को बड़ा चैलेंज पेश किया है।

बसपा नेता और पूर्व ब्लाक प्रमुख मोहम्मद शमी की हत्या रात के समय शहर से पचास किलोमीटर दूर मऊआइमा इलाके में उस वक्त की गई जब वह अपने घर जा रहे थे। बदमाशों ने उन पर कई राउंड फायरिंग की। शमी को पांच गोली लगी थी।

बता दें कि मौत के घाट उतारे गए मोहम्मद शमी कई बार ब्लाक प्रमुख रह चुके हैं।  समाजवादी पार्टी में दो दशक से ज्यादा का वक्त बिताने के बाद मोहम्मद शमी पिछले महीने ही बीएसपी में शामिल हुए थे। साथ ही साल 2002 में प्रतापगढ़ की कुंडा सीट से राजा भैया के खिलाफ विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुके हैं। हालांकि उस चुनाव में समाजवादी पार्टी का टिकट होने के बावजूद शमी को करारी हार का सामना करना पड़ा था और वह अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए थे।

वहीं कत्ल की इस सनसनीखेज वारदात के बाद ऐसी आशंका जताई जा रही है कि सियासी रंजिश के चलते ही अंजाम दी गई है। शमी की हत्या के बाद उनके समर्थकों ने हंगामा करते हुए कुछ देर के लिए इलाहाबाद- फैजाबाद हाइवे को जाम भी किया। इस सनसनीखेज वारदात में पुलिस अभी तक किसी नतीजे पर नहीं पहुँच सकी है।

बीएसपी नेता शमी की हत्या किसने और क्यों की, फिलहाल यह साफ नहीं हो सका है। वहीं पुलिस का कहना है कि परिवार वालों की शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। मौत के घाट उतारे गए मोहम्मद शमी के खिलाफ भी कई क्रिमिनल केस दर्ज हैं।

Share With:
Rate This Article