कराची में लापता हुए निजामुद्दीन दरगाह के मौलवी, सुषमा ने PAK सरकार के सामने उठाया मुद्दा

सुषमा स्वराज ने कहा है कि उन्होंने पाकिस्तान में लापता हुए दो भारतीय खादिमों का मुद्दा पाकिस्तान सरकार के सामने उठाया है। फॉरेन अफेयर्स मिनिस्टर ने शुक्रवार को ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी। बता दें कि सूफी संत हजरत निजामुद्दीन औलिया की दरगाह के मुख्य खादिम और एक भारतीय मौलवी गुरुवार को पाकिस्तान से लापता हो गए।

सुषमा ने क्या कहा
-सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को किए ट्वीट्स में कहा- भारतीय नागरिक सैयद आसिफ अली निजामी (80) और उनके भतीजे नाजिम अली निजामी 8 मार्च को पाकिस्तान गए थे। कराची एयरपोर्ट पर लैंड करने के बाद से ही वो लापता हैं। हमने यह मुद्दा पाकिस्तान के सामने उठाते हुए उनसे अपडेट्स मांगे हैं।

क्या है मामला?
– एक न्यूज एजेंसी की खबर के मुताबिक, निजामुद्दीन दरगाह के मुख्य खादिम आसिफ निजामी और नजीम निजामी लाहौर की दाता दरबार दरगाह पर गए थे। उन्हें बुधवार को वहां से लौटने के लिए कराची की फ्लाइट में बैठना था।
– उनके परिवार के लोगों का कहना है कि आसिफ निजामी को लाहौर एयरपोर्ट पर अधूरे ट्रेवल डॉक्यूमेंट्स होने का कारण बताकर रोका गया था।
– एक सूत्र ने बताया कि खादिम लाहौर एयरपोर्ट से, जबकि दूसरे मौलवी कराची एयरपोर्ट से लापता हो गए।
– भारत सरकार ने और इस्लामाबाद में मौजूद भारतीय राजूदत ने यह मामला पाकिस्तान सरकार के सामने उठाया है।
– बताया जा रहा है कि ये दोनों मौलवी अपने रिश्तेदारों से मिलने कराची गए थे। इसके बाद वे लाहौर में दाता दरबार की दरगाह पर गए थे।
– लंबे समय से दाता दरबार और निजामुद्दीन दरगाह के खादिम एकदूसरे के यहां आते-जाते रहे हैं।

परिवार ने क्या कहा?
आसिफ निजामी के बेटे अामिर निजामी ने कहा कि हम दोनों से संपर्क नहीं कर पा रहे हैं। मैं सरकार से अपील करता हूं कि वह मेरे पिता के बारे में पता लगाने में मदद करे।

Share With:
Rate This Article