दिल्ली में अगर ‘कहीं भी’ करते हैं गाड़ी पार्क, तो ये खबर आपके लिए जरूरी है

दिल्ली में बहुत जल्द विस्तृत पार्किंग पॉलिसी का नियम अपनाया जाएगा।  दिल्ली के ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने पार्किंग पॉलिसी का ड्राफ्ट तैयार किया। दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल ने पार्किंग पॉलिसी को लागू करने के लिए अलग-अलग एजेंसियों के साथ मीटिंग की जिसमें कई पॉइंट्स पर विचार-विमर्श किया गया। एलजी सचिवालय के एक अधिकारी ने कहा कि इस पॉलिसी को एक महीने के अंदर लागू किया जाएगा।

इस ड्राफ्ट पॉलिसी में कई सुझाव दिए गए हैं जिसमें पार्किंग रेट बढ़ाने के साथ ही आवासीय कॉलोनियों में फ्री पार्किंग की सुविधा को बंद करने की बात भी कही गई है। एलजी की ओर से बुलाई गई इस मीटिंग में शामिल एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, ‘अब सुझाव यह है कि कुछ भी फ्री नहीं होना चाहिए। कई लोग पूरे दिन के लिए अपनी गाड़ी पार्क कर देते हैं इससे यह पता चलता है कि पार्किंग रेट इतने ज्यादा नहीं है कि लोग वह कीमत देने से घबराएं। अब इस बात पर जोर दिया जा रहा है कि इलाके और मांग के हिसाब से पार्किंग चार्ज तय हो।’

पब्लिक स्पेस के इस तरह के इस्तेमाल को रोकने के लिए ड्राफ्ट पॉलिसी में सुझाव दिए गए हैं कि सड़कों की सघनता, चौड़ाई और कनेक्टिविटी की पहचान की जाए। फुटपाथ पर पार्किंग करना पूरी तरह से वर्जित होगा। तो वहीं, रोड और व्यवसायिक सड़कों को वर्गीकृत कर ट्रैफिक पुलिस और स्थानीय लोगों से बातचीत कर इलाके में नो पार्किंग जोन बनाए जाएंगे।

विचार विमर्श के बाद एलजी ने निर्देश दिए कि पॉलिसी के तहत शॉर्ट टर्म, मीडियम टर्म और लॉन्ग टर्म उपायों को सख्त तरीके से लागू करने की जरूरत है। पार्किंग रेट्स में वृद्धि करने पर विचार किया जाएगा लेकिन कम समय के लिए पार्किंग करने को प्रोत्साहित करने की भी बात की जा रही है। जो लोग दिनभर के लिए अपनी गाड़ी पार्क करना चाहते हैं उन्हें मल्टीलेवल पार्किंग लॉट में पार्क करने के लिए कहा जाएगा। एक अधिकारी ने कहा, ‘आवासीय इलाकों में भी पार्किंग करने पर रोक लगायी जाएगी। अगर लोग गाड़ियों पर इतना पैसा खर्च करने को तैयार हैं तो उसके लिए पार्किंग भी फ्री नहीं होनी चाहिए।’

ड्राफ्ट में साफ तौर पर यह बात कही गई है कि पार्किंग पर अमल करवाने के साथ ही पर्याप्त मात्रा में अधिकृत पार्किंग की भी जरूरत है। एलजी ऑफिस के बयान में कहा गया है, नगर निगम और दूसरी एजेंसियों को पार्किंग लॉट के कॉन्ट्रैक्ट पर कड़ाई से नजर रखनी चाहिए। ड्राफ्ट में यह भी कहा कि सड़कों पर लगातार गश्त करने और चालान काटने के लिए नई तकनीक का इस्तेमाल किया जाए।

दिल्ली के उपराज्यपाल ने इसी साल जनवरी महीने में दिल्ली शहर में पार्किंग की बढ़ती समस्या से निपटने के लिए एक टास्ट फोर्स का गठन किया था। इसी के तहत यह पार्किंग पॉलिसी का ड्राफ्ट तैयार किया गया है। इस मीटिंग में शामिल होने वाले लोगों में दिल्ली के ट्रांसपोर्ट मंत्री सत्येंद्र जैन समेत कई सीनियर अधिकारी जिसमें मुख्य सचिव, ट्रांसपोर्ट कमिशनर, PWD के सचिव, DJB, DTC, DMRC, NDMC जैसी संस्थाओं के प्रमुख और ट्रैफिक पुलिस कमिशनर शामिल थे।

Share With:
Rate This Article