यहां पढ़ें MCD चुनाव की पूरी डिटेल

दिल्ली में नगर निगम चुनाव का बिगुल बज गया है। दिल्ली चुनाव आयोग ने आज निगम चुनाव के कार्यक्रम की आधिकारिक घोषणा कर दी। मतदान की तारीख 22 अप्रैल रखी गई है और 25 अप्रैल को मतगणना की जाएगी। निगम चुनाव में करीब 1.32 करोड़ मतदाता मतदान करेंगे। दिल्ली में सत्ताधारी दल आम आदमी पार्टी और हाशिये पर जा चुकी कांग्रेस के लिए यह चुनाव काफी महत्त्वपूर्ण माना जा रहा है। तीनों निगमों में पिछले 10 साल से सत्ता पर काबिज भाजपा के सामने अपनी सत्ता बचाने की कठिन चुनौती है।

दिल्ली चुनाव आयोग के आयुक्त एस के श्रीवास्तव ने निगम चुनाव की आधिकारिक घोषणा की। उन्होंने कहा कि तीनों निगमों में 272 वार्ड के लिए 22 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे और 25 अप्रैल को मतों की गिनती होगी। चुनाव तारीख की घोषणा के साथ ही दिल्ली में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया 27 मार्च से शुरू होकर 3 अप्रैल को बंद होगी और 8 अप्रैल तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। निगम चुनाव में पहली बार नोटा का विकल्प भी होगा। आयोग ने प्रत्येक उम्मीदवार के लिए खर्च की सीमा 5 लाख रुपये से बढ़ाकर 5.75 लाख रुपये कर दी है।

आयोग ने स्पष्ट कर दिया कि निगम चुनाव में मतदान के लिए ईवीएम का उपयोग किया जाएगा, जबकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से मतदान कराने की मांग थी। दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने भी केजरीवाल की इस मांग से सहमति जताई। पंजाब व गोवा में हार के बाद आप के लिए ये चुनाव काफी महत्त्वपूर्ण हो गए हैं। विधानसभा में शून्य सीट पाने वाली दिल्ली कांग्रेस के लिए निगम चुनाव उसके राज्य में अस्तित्व का सवाल है।

Share With:
Rate This Article