‘पापा ने कहा था बर्थ-डे पर आऊंगा’, शहीद के 10 साल के बेटे का दर्द

गुरदासपुर

छतीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले में शहीद हुए सी.आर.पी.एफ. के इंस्पेक्टर जगजीत सिंह का शव रविवार को उनके पैतृक गांव कोटला शरफ में पहुंचा जहां राष्ट्रीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। शहीद की चिता को उनके भाई ने मुखाग्नि दी।

पापा की शहादत पर गर्व है
शहीद के 10 साल के बेटे ने पिता को अंतिम सलामी देते हुए कहा कि मुझे पिता की शहादत पर गर्व है और वह भी अफ़सर बनेगा। पापा मेरे बर्थ-डे पर आने का बोल रहे थे और फिर रोने लगा। वहीं बेटे की इस बात को सुनकर वहां मौजूद लोगों की आंखे भर आर्इ। शहीद जगजीत सिंह की शहादत को नमन करने के लिए सी.आर.पी.एफ. के अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी और बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। बतां दे कि कि सी. आर. पी. एफ. की 219 बटालियन के जवान जगजीत सिंह गत दिवस छतीसगढ़ में नक्सली हमले में शहीद हो गए थे।

Share With:
Rate This Article