पाकिस्तान में 19 साल बाद होगी जनगणना, 18.5 अरब रुपए होंगे खर्च

पाकिस्तान में 19 साल बाद जनगणना होने जा रही है। जनगणना का काम बुधवार से शुरू होगा.  इस काम में पाक आर्मी के 2 लाख से ज्यादा सैनिक मदद करेंगे.  यह पाकिस्तान की छठी जनगणना होगी, जिसे दो फेज में पूरा किया जाएगा.  इसे पूरा करने के लिए 25 मई तक का समय निर्धारित किया गया है.

गौरतलब है कि इससे पहले पाक में 1998 में जनगणना हुई थी। उस दौरान पाकिस्तान की  कुल आबादी करीब 18 करोड़ दर्ज की गई थी.  आर्मी स्पोक्सपर्सन मेजर जनरल आसिफ गफूर और मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर इन्फॉर्मेशन मरियम औरंगजेब ने एक ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जनगणना की तैयारी की जानकारी दी.

मेजर जनरल गफूर ने कहा, हर सैनिक एक एन्युमरेटर (गणनाकार) के साथ घर-घर जाकर जानकारी इकट्ठा करेगा.  इस दौरान वे घरों और वहां रहने वालों की संख्या हासिल करेंगे.  सैनिक एन्युमरेटर को सिक्योरिटी देने के साथ ही जुटाए गए डाटा के वेरिफिकेशन में भी उसकी मदद करेगा.

जनगणना में 1 लाख 18 हजार 918 सिविलियन स्टाफ हिस्सा लेगा। ये सभी सरकारी कर्मचारी हैं जिन्हें इस काम की ट्रेनिंग दी गई है। पहला फेज 15 मार्च से शुरू होगा और 15 अप्रैल को खत्म होगा। 10 दिन के अंतराल के बाद दूसरा फेज 25 अप्रैल से शुरू होकर 25 मई को खत्म होगा। जनगणना पर करीब 18.5 अरब रुपए खर्च होंगे.

Share With:
Rate This Article