कड़ी निगरानी में होगी मतगणना, पढ़ें क्या इंतजाम किए गए हैं

चुनाव आयोग के निर्देशों के अनुसार इस बार पंजाब विधानसभा के हुए मतदान की 11 मार्च को होने वाली मतगणना के लिए पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। मतगणना का पूरा कार्य सी.सी.टी.वी. कैमरों और माइक्रो ऑब्जर्वरों की उपस्थिति में होगा।

हर एक राज्य के 117 विधानसभा क्षेत्रों में हुए मतदान की गणना का कार्य राज्य की 27 जगहों पर स्थापित किए गए 54 केंद्रों पर होगा और इस कार्य में 14 हजार से अधिक कर्मचारी ड्यूटी पर तैनात किए गए हैं। सभी मतगणना केंद्रों पर पी.सी.एस. रैंक के अधिकारी कार्य की कमान संभालेंगे। उनके साथ तहसीलदार रैंक के सहायक अधिकारी लगाए गए हैं। हरेक हलके की मतगणना के लिए 15 टेबल लगाए जाएंगे जिनमें 14 ई.वी.एम. तथा एक वैलेट मतदाताओं वाला बॉक्स होगा। हर टेबल पर 4 सदस्यों की टीम मतगणना का कार्य करेगी।

इस बार जिला चुनाव कार्यालयों सहित अहम सार्वजनिक स्थलों तथा मॉल्ज में चुनाव परिणाम लाइव दिखाने के लिए टी.वी. स्क्रीनें लगाई जा रही हैं। चुनाव आयोग के निर्देशों के अनुसार मतगणना केंद्रों के आसपास 100 मीटर का घेरा पूरी तरह वाहन मुक्त जोन होगा। केंद्र के आसपास कड़ी बैरीकेडिंग होगी। अंदरूनी सुरक्षा पैरामिलिट्री फोर्स तथा बाहरी सुरक्षा की मुख्य जिम्मेदारी राज्य पुलिस की होगी।

मतगणना केंद्र में केवल ऑब्जर्वर को ही मोबाइल फोन ले जाने की आज्ञा होगी। इसके अतिरिक्त मतगणना अमले में शामिल कोई भी अधिकारी, कर्मचारी, उम्मीदवार, काऊंटिंग एजैंट और सुरक्षा कर्मचारियों तथा अन्य कर्मचारियों को मोबाइल ले जाने की आज्ञा नहीं होगी। मीडिया के लिए भी मतगणना केंद्रों में जानकारी देने के विशेष प्रबंध किए गए हैं। मतगणना केंद्रों में प्रवेश सिर्फ  चुनाव आयोग द्वारा जारी प्रवेश पत्रों पर ही होगा।

11 मार्च को होने वाली मतगणना के लिए सभी तरह के प्रबंध पूरे कर लिए गए हैं। जिला अधिकारियों को सुरक्षा सहित अन्य प्रबंधों संबंधी पहले ही पूरा प्रशिक्षण दिया गया है। नियमों को सख्ती से लागू करने की हिदायत दी गई है।

Share With:
Rate This Article