दिल्ली-NCR के कई इलाकों में बारिश, पहाड़ों पर बर्फबारी से तापमान में गिरावट

दिल्‍ली

दिल्‍ली-एनसीआर के अधिकतर इलाकों में मौसम में तेजी के साथ बदलाव देखने को मिल रहा है. गुरुवार को दोपहर तक तेज धूप खिली रही और करीब तीन बजे आसमान में बादलों ने डेरा जमा लिया. देखते ही देखते बादलों की गरज के साथ बारिश शुरू हो गई. दिल्‍ली के कई इलाकों में ओले भी गिरे.

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों के अनुसार, सरसों व गेहूं दोनों फसल के लिए यह बारिश और ओलावृष्टि नुकसानदायक है. वैज्ञानिकों की माने तो यह बारिश सरसों और गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद है, लेकिन इससे आम में लग रहे बौर को काफी नुकसान होगा.

यह बारिश राजधानी दिल्‍ली तक ही सीमित नहीं रही. बल्कि पूरे दिल्‍ली एनसीआर में बादलों की गरज के साथ बारिश हुई. इसके चलते कई इलाकों में विद्युत आपूर्ति भी बाधित रही.

हालांकि, मौसम विभाग ने मौसम में बदलाव की संभावना जताई थी. यह भी दावा किया गया था कि आज गरज के साथ बारिश हो सकती है. इस बारिश से तापमान में गिरावट तय माना जा रहा है. दिल्‍ली से सटे हरियाणा के कई जिलों में तेज बारिश हुई.

राजधानी दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में मौसम ने अचानक करवट बदली है. एक तरफ जहां पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हो रही है वहीं मैदानी इलाकों में रुक-रुककर बारिश जारी है. बर्फ और बारिश के बाद तापमान में काफी गिरावट आई है.

वहीं, उत्तराखंड के औली, बद्रीनाथ, हेमकुंड साहिब और केदारनाथ में एक बार बर्फबारी होने लगी है. केदारनाथ पूरी तरह से बर्फ की चादर से ढक गया है. केदारनाथ में 5 फीट तक बर्फ जम गई है. जिसके चलते तापमान माइनस में चला गया है. बाबा केदार के मुख्य मंदिर के सामने मौजूद नंदी की मूर्ति भी बर्फ से ढक गई है.

बद्रीनाथ में तीन फीट ऊंची बर्फ की चादर जम गई है. वहीं औली में दिसंबर जनवरी जैसा माहौल हो गया है. बर्फबारी के बाद सैलानी भी पहुंचने लगे हैं. साथ ही चमोली में भी बर्फबारी हो रही है.

जानकारों का मानना है कि मार्च में कई सालों बाद इतनी बर्फबारी हुई. उधर मौसम विभाग ने संभावना 12 मार्च तक ऐसा ही मौसम रहने की संभावना जताई है. मौसम विभाग के मुताबिक 10 और 11 मार्च को पहाड़ों पर बारिश और बर्फबारी की संभावना है.

Share With:
Rate This Article