बॉर्डर पर आतंकी गतिविधियों को लेकर भारत ने पाकिस्तान को चेताया

दिल्ली

सेना मुख्यालय के सैन्य संचालन के महानिदेशक (डीजीएमओ) ने आज ‘हॉटलाइन’ पर अपने पाकिस्तानी समकक्ष से एलओसी पर जारी आतंकवादियों गतिविधियों को लेकर बातचीत की और उन्हें चेताया.

भारत के मिलिट्री ऑपरेशन के महानिदेशक (डीजीएमओ) ए के भट्ट ने नियंत्रण रेखा के पास होने वाली आतंकी गतिविधियों पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि वो इस पर लगाम लगाए.

भारत ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के उड़ी में पकड़े गए दो पाकिस्तानी नागरिकों को 10 मार्च को वाघा बॉर्डर पर सौंपा जाएगा. भारत के डीजीएमओ ने एलओसी पर आतंकवादियों की गतिविधियां सामने आने पर भी चिंता जताई.

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में गत 29 सितंबर को आतंकवादियों के ठिकानों पर भारतीय सेना की ओर से की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद संभवत: पहली बार डीजीएमओ स्तर की बातचीत की गई है. सर्जिकल स्ट्राइक के बाद डीजीएमओ ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष को फोन कर ऑपरेशन की जानकारी दी थी.

सेना के सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी डीजीएमओ को 2 पाकिस्तानी नागरिकों फैसल अवान और अहसाह खुर्शीद को वापस उनके देश भेजे जाने की भी जानकारी दी. दोनों गत वर्ष सितंबर में नियंत्रण रेखा के उस पार से दुर्घटनावश भारतीय सीमा में प्रवेश कर गए थे. उरी हमले के इन दोनों संदिग्धों को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने कल सेना को सौंप दिया था.

Share With:
Rate This Article