महज 5 महीने में चंद्रबाबू नायडू के बेटे की संपत्ति में 23 गुना बढ़ोत्‍तरी

हैदराबाद

नोटबंदी के बाद से भले ही देशभर में आम जन और कंपनियां कमाई कम होने और संपत्ति का मूल्य गिरने की बात कर रहे हों, लेकिन आंध्र प्रदेश के युवा राजनेता नारा लोकेश ने चुनाव आयोग में जो हलफनामा दाखिल किया है, वह बताता है कि इस दौरान उनकी संपत्ति में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू के बेटे और तेलुगू देशम पार्टी के महासचिव नारा लोकेश जल्द अपने पिता की कैबिनेट का हिस्सा बनने वाले हैं.

लोकेश ने सोमवार को एमएलसी चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया, जिसके लिए दाखिल हलफनामे के मुताबिक लोकेश की संपत्ति 330 करोड़ रुपए है. वहीं, अक्टूबर 2016 में लोकेश की कुल संपत्ति महज 14.5 करोड़ रुपए थी, यानी 5 महीनों में करीब 23 गुना वृद्धि.

बीते साल 19 अक्टूबर को लोकेश ने अपनी चल और अचल संपत्ति की घोषणा की थी, जिसके मुताबिक उनके पास कुल 14.5 करोड़ रुपए की संपत्ति थी, इसमें हेरिटेज फूड्स के 2.52 करोड़ रुपए के शेयर, अन्य कंपनियों में 1.64 करोड़ के शेयर और 93 लाख रुपए की कार शामिल थे.

वहीं, अमरावती में एमएलसी चुनाव के रिटर्निंग ऑफिसर को जमा किए गए हलफनामे के मुताबिक, उनके पास कुल 330 करोड़ रुपए की संपत्ति है. 330 करोड़ की इस संपत्ति में परिवार द्वारा संचालित हेरिटेज फूड्स में 273.84 करोड़ रुपए के शेयर्स, 18 करोड़ रुपए की अचल संपत्ति और 38.52 करोड़ रुपए की पुश्तैनी संपत्ति शामिल है. इसके अलावा उन्होंने 6.35 करोड़ रुपयों की देनदारी घोषित की.

यहां पर यह जानकारी अहम है कि हेरिटेज फूड्स ने बीते नवंबर में फ्यूचर रिटेल लिमिटेड को अपनी रिटेल इकाई बेची थी. विपक्षी वाईएसआर कांग्रेस का आरोप है कि नायडू परिवार को नोटबंदी की जानकारी पहले से थी, इसलिए जल्द मुनाफा हासिल करने के लिए इस सौदे को अंजाम दिया गया. इस दौरान हेरिटेज फूड्स में लोकेश के 2.52 करोड़ रुपए के शेयरों का मूल्य बढ़कर 273.84 कोरड़ रुपए हो गया.

Share With:
Rate This Article