दहेज के दानव, मांग पूरी न होने पर महिला और बच्ची को घर से निकाला

बस्ती गोबिंदगढ़ मोगा निवासी महिला ने अपने पति तथा ससुराल के अन्य सदस्यों पर दाज दहेज व पांच लाख नकदी की मांग पूरी न करने पर उसे मानसिक तौर पर परेशान व मारपीट करने के बाद नन्हीं बच्ची सहित घर से बाहर निकालने का आरोप लगाया है। पुलिस द्वारा पीड़िता की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया गया है।

क्या है सारा मामला
जिला पुलिस अधीक्षक मोगा को दिए शिकायत पत्र में पीड़ित महिला निवासी मुल्लांपुर हाल आबाद बस्ती गोङ्क्षबदगढ़ मोगा ने कहा कि उसकी शादी 2 जून 2013 को बिक्रम शर्मा पुत्र विजय कुमार निवासी ग्रीन एवेन्यू बटाला के साथ धार्मिक रीति-रिवाजों के अनुसार लुधियाना के एक मैरिज पैलेस में हुई थी। शादी मेरे नौनिहाल की मदद से हुई, जिसमें उन्होंने हैसियत अनुसार दहेज दिया। शादी से पहले हमें बताया गया कि लड़के का अच्छा कारोबार है, लेकिन शादी के बाद मेरा पति तथा ससुराल के अन्य सदस्य दहेज के अलावा पांच लाख रुपए नकदी की मांग करने लगे। जिस पर मुझे पता चला कि मेरा पति कोई काम नहीं करता। जब हमने नकदी और दहेज देने से इंकार किया तथा कहा कि मेरे पिता की मृत्यु हो चुकी है, जिस कारण हम तुम्हारी मांग पूरी नहीं कर सकते। मेरे पति व ससुरालियों ने कहा कि यदि मांग पूरी न हुई, तो हम तुम्हें  नहीं रखेंगे और तलाक लेंगे।

इसके बाद मुझे तंग परेशान करना शुरू कर दिया और मैं मानसिक तौर पर परेशान हो गई। मेरे पारिवारिक सदस्यों द्वारा मेरे पति तथा ससुरालियों को समझाने का कई बार प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने कोई बात न सुनी और उन्हें अपमानित कर निकाला गया। जिस पर मैंने जगराओं पुलिस में भी अपने पति तथा ससुराल के अन्य सदस्यों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी, जिस पर हमारा वूमैन सैल द्वारा फैसला करवाया गया था, लेकिन वह अपने फैसले पर कायम नहीं रह सके और मुझे मारपीट कर बच्ची सहित घर से निकाल दिया और दहेज का सारा सामान हड़प कर लिया।

बेटी पैदा होने पर बढ़ा विवाद
पीड़िता ने कहा कि मैंने 16 फरवरी 2014 को एक लड़की को जन्म दिया, जिस पर मेरा पति तथा ससुराल परिवार के अन्य सदस्य कहने लगे कि तुमने लड़की पैदा क्यों की, लड़का पैदा क्यों नहीं किया, हमें लड़का चाहिए और वह मुझे मानसिक तौर पर इतना परेशान करने लगे कि मेरा दिल करने लगा कि मैं इससे तो खुदकुशी ही कर लूं या इन्हें छोड़कर अपने मायके घर चली जाऊं, लेकिन बेटी के कारण मैं सहन करती रही।

पहली पत्नी से भी हुआ था तलाक
उसने आरोप लगाया कि दहेज को लेकर मेरे पति का अपनी पहली पत्नी के साथ भी झगड़ा होता था और ससुराली परिवार भी उसे तंग परेशान करता था, जिस कारण इनका विवाद रहने लगा। आखिर वह अपने मायके घर जाने के लिए मजबूर हो गई और मामला माननीय अदालत में चला गया। जिस पर माननीय अदालत में पांच साल केस चलने के बाद उक्त दोनों का तलाक हो गया।

क्या हुई पुलिस कार्रवाई
जिला पुलिस अधीक्षक के आदेश पर मामले की जांच डी.एस.पी. (सिटी) मोगा द्वारा की गई, जिसमें जांच अधिकारी ने दोनों पक्षों को अपना पक्ष पेश करने के लिए बुलाया। जांच समय शिकायतकत्र्ता के आरोप सही पाए जाने के बाद कानूनी राय हासिल कर पीड़िता के पति कथित आरोपी बिक्रम शर्मा के खिलाफ थाना सिटी मोगा में मामला दर्ज किया गया। मामले की अग्रिम जांच सहायक थानेदार गुलजार सिंह कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कथित आरोपी को काबू करने के लिए छापामारी की जा रही है।

Share With:
Rate This Article