पाक बॉर्डर से मनाली जाएगा ये हाई-वे, पढ़ें पूरी खबर

ऊना

हिमाचल का जिला ऊना अब अंतर्राष्ट्रीय हाईवे के साथ जुड़ जाएगा। जालंधर-मंडी नैशनल हाईवे को अब अटारी स्थित वाघा बार्डर से मनाली के रूप में अधिसूचित कर दिया गया है। पाकिस्तान के साथ लगती अंतर्राष्ट्रीय सीमा से शुरू होने वाला यह नैशनल हाईवे बाघा बॉर्डर से अमृतसर, जालंधर, होशियारपुर व अम्ब होता हुआ हमीरपुर, मंडी से मनाली तक जुड़ेगा। इस नए हाईवे को न्यू 03 नैशनल हाईवे का नाम दिया गया है। पहले नैशनल हाईवे-70 की जगह नया नम्बर जारी कर दिया गया है। जिला का काफी हिस्सा इस हाईवे के साथ जुड़ेगा। इसकी अपग्रेडेशन के साथ-साथ मॉडीफिकेशन भी होगी। मनाली के आगे का हिस्सा पहले ही बी.आर.ओ. के पास है। होशियारपुर की सीमा से शुरू होकर इस नैशनल हाईवे को जिला ऊना के गगरेट और चिंतपूर्णी क्षेत्रों का अधिकतर हिस्सा शामिल होगा।

ऊना में सबसे अधिक नैशनल हाईवे होंगे
पहले यह हाईवे जालंधर-मंडी के रूप में जाना जाता था। अब इसकी पहचान अटारी-मनाली नैशनल हाईवे के रूप में होगी। जिला ऊना प्रदेश का ऐसा शायद पहला जिला होगा जहां सबसे अधिक नैशनल हाईवे होंगे। बाघा बार्डर-मनाली नैशनल हाईवे के अतिरिक्त चंडीगढ़ से धर्मशाला को जोड़ने वाला मुख्य मार्ग प्रदेश के प्रवेश द्वार मैहतपुर से अम्ब तक के हिस्से को भी एन.एच. में शामिल किया गया है। पहले यह स्टेट रोड ही था लेकिन इसे अब मैहतपुर-अम्ब एक्सटैंशन एन.एच. का नाम दिया गया है। इस हिस्से को एन.एच. में शामिल करने के साथ ही चंडीगढ़ से कांगड़ा-नगरोटा बगवां का पूरा रोड एन.एच. में ही शामिल हो गया है। मुबारिकपुर से नगरोटा बगवां को एन.एच.-503 के रूप में अधिसूचित किया गया है। पहले इस हाईवे को 20ए के रूप में पहचाना जाता था। ये सड़कें हुईं एन.एच. में शामिल जिला में जो नई सड़कें एन.एच. में शामिल हुईं हैं। इनमें ऊना से पीरनिगाह-बीहड़ू-लठियाणी रोड जबकि जिला मुख्यालय से झलेड़ा और पंजाब के होशियारपुर जिला के बनखंडी तक शामिल हैं।

ऊना की काफी हद तक बदल जाएगी तस्वीर
जिन नई सड़कों को एन.एच. में शामिल करने के लिए केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्रालय से प्रिंसिपल अप्रूवल मिली हैं उनमें संतोषगढ़ से ऊना, ऊना से पुराना होशियारपुर रोड होता हुआ घालूवाल तक, संतोषगढ़ से टाहलीवाल-पोलियां-जेजों तक, पोलियां से पूबोवाल-हरोली-पंजावर, गगरेट और दौलतपुर-मरवाड़ी तक, मरवाड़ी से भद्रकाली-सुंकाली-मुबारिकपुर, कुटलैहड़ क्षेत्र के बंगाणा से तूतड़ू-धनेटा-शांतला, चिंतपूर्णी से टैरस वाया जौड़बड़ रोड तथा कलोहा-प्रागपुर-ढलियारा-स्यूलखड्ड-टैरस रोड शामिल हैं। इन सभी सड़कों को एन.एच. में शामिल करने के लिए प्रिंसिपल अप्रूवल मिल चुकी है। नैशनल हाईवे अथॉरिटी अब इन सड़कों की डी.पी.आर. तैयार करने में जुट गई है। कंसलटैंसी के लिए टैंडर लगाए जा चुके हैं। ऊना की सड़कें होंगी चकाचक एन.एच. बनने से प्रदेश के इस सीमावर्ती जिला ऊना की तस्वीर काफी हद तक बदल जाएगी।

सड़कों की शुरू की डी.पी.आर.
सड़कों के मामले में ऊना जिला चकाचक हो जाएगा। हालांकि जिला की कई सड़कों को प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत शामिल किया गया है और करीब 70 करोड़ रुपए से अधिक की लागत से इन सड़कों को अपग्रेड करने का कार्य भी चला हुआ है। नैशनल हाईवे में शामिल हुई सड़कों के निर्माण के बाद प्रदेश का सबसे समतल जिला ऊना विकास की नई मंजिलों को छूएगा। सड़कों के मामले में जिला नए मील का पत्थर साबित होगा। न केवल सड़कें बनेंगी बल्कि अनेक पुल व जिला मुख्यालय पर फ्लाई ओवर बनने से यातायात को सुचारू बनाया जा सकेगा। आने वाले दिनों में युद्धस्तर पर यहां सड़कों के निर्माण का काम आरंभ होगा। सड़कों की बनाई जा रही डी.पी.आर. हाल ही में केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने जिन नए नैशनल हाईवे का ऐलान किया था उनमें ऊना जिला की यह सड़कें भी शामिल हैं। मंत्री के ऐलान के बाद इनकी प्रिंसिपल अप्रूवल नैशनल हाईवे अथॉरिटी के पास पहुंच गई हैं। कुछ सड़कों की तो डी.पी.आर. भी तैयार करनी शुरू कर दी गई है।

Share With:
Rate This Article