पेश हुआ हरियाणा का बजट, पढ़ें क्या कुछ रहा खास

इस बार वित्त मंत्री ने 1,02,329 करोड़ रुपए का बजट पेश किया. वितमंत्री ने बताया कि पिछले वित्त वर्ष की तुलना में राजकोषीय घाटा कम हुआ है. प्रदेश में विकास कार्यों के लिए 14,932 करोड़ रुपए खर्च होंगे।सभी आर्थिक और राजकोषीय मानकों में प्रगति हुई है. प्रति व्यक्ति आय 5.9 की दर से बढ़ने की उम्मीद है.

हरियाणा विधानसभा में वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने बजट पेश किया. पहली बार व्यय के योजना एवं गैर-योजनागत वर्गीकरण को समाप्त करके बजट को राजस्व एवं पूंजीगत वर्गीकरण के रूप में प्रस्तुत किया गया.

जानें किस विभाग को मिला क्या?
कृषि और सम्बद्ध क्षेत्र को 12,784.72 करोड़ रूपये प्रस्तावित.
गरामिन विकास एवं पंचायत के लिए 4963.09करोड़ प्रस्तावित.
शिक्षा एवं सम्बद्ध क्षेत्र के लिए 15546.65करोड़ रूपये प्रस्तावित.
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के लिए 3839.90 करोड़ प्रस्तावित.
उद्योग एवं खनिज विकास के लिए 399.88करोड़ प्रस्तावित.
समाज कल्याण एवं महिला एवं बाल विकास ,अनुसूचित जाति व पिछड़े वर्ग के लिए 6859.55करोड़ रूपये प्रस्तावित.
बिजली के लिए 12,685.71करोड़ रूपये प्रस्तावित.
जनसवस्थाय अभियांत्रिकी के लिए 3382.84 करोड़.
शहरी विकास के लिए4973.58 करोड़ और जिला योजना के लिए400 करोड़ प्रस्तावित.
परिवहन के लिए 2549.81 करोड़.
सड़कों के लिए 3827.70करोड़ प्रस्तावित.
2017-18 में पर्यटन के लिए 72.14 करोड़ रुपये का परिव्यय.

Share With:
Rate This Article