6000 साल पुरानी सभ्यता से संकेत मिले, जरूर पढ़ें

फतेहाबाद जिले के गांव कुनाल में हड़प्पाकाल से भी प्राचीन सभ्यता के संकेत मिले हैं। पुरातत्व विभाग ने दावा किया है कि पिछले दिनों गांव कुनाल में शुरू की गई खुदाई में प्री-हड़प्पाकालीन सभ्यता के अवशेष मिले है, जो 6000 साल पुराने हैं। अगर यह बात सच होती है तो यह सभ्यता दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता हो सकती है।

हड़प्पाकालीन सभ्यता करीब 3500 साल पुरानी है जबकि प्री-हड़प्पाकालीन सभ्यता तो 5000 से 6000 वर्ष पुरानी है। खुदाई के दौरान टीम को आभूषण, मणके, हड्डियों के मोती मिले हैं। पुरातत्व विभाग का कहना है कि ये वस्तुएं बेशकीमती हैं और विभाग इन्हें अपने संग्रहालय में सहज कर रखेगा।

आभूषण बनाने के लिए भट्ठी का होता था इस्तेमाल
डेप्युटी कमिश्नर एन. के. सोलंकी ने बताया कि गांव कुनाल में हड़प्पाकालीन स्थल पर नदी के प्रवाह क्षेत्र के किनारों की खुदाई आरंभ हो गई है। राष्ट्रीय संग्रहालय के महा निदेशक डॉ. बी. आर. मनी भारतीय पुरातत्व समिति की देखरेख में यह कार्य किया जा रहा है। यहां पर 1985 में भी खुदाई का काम शुरू हुआ था। उस दौरान यहां 24 कैरेट सोने के हार व चांदी के मुकुट भी मिले थे, जो पहले हरियाणा से कहीं नहीं मिले। इससे यह सभ्यता हड़प्पाकालीन सभ्यता से पूर्व की सभ्यता सिद्ध हो रही है। यहां पर आभूषण पिघलाने की भट्ठी भी मिली थी, जिससे यह स्पष्ट लग रहा है कि लोग आभूषण ढालने का काम किसी भट्टी से करते थे।

गोलाकार घरों में रहते थे लोग
उन्होंने बताया कि खुदाई में मिले आभूषण, चूड़ियां, मणके की मदद से इस सभ्यता को और गहराई से समझा जाएगा। खुदाई के दौरान यहां पर गोलाकार घर भी मिले हैं, जो हड़प्पाकालीन संस्कृति से भी पूर्व की संस्कृति के प्रमाण सिद्ध हो रहे हैं। करीब 5000 से 6000 साल पहले लोग ऐसे मकान नदियों के किनारे बनाते थे। हड़प्पाकालीन सभ्यता के लोग घरों को चौरस बनाते थे।

कुनाल में मिट्टी के गोलाकार मकान मिले हैं। कहीं पर भी ईंट और पत्थरों का इस्तेमाल नहीं किया गया है जो दर्शा रहा है कि ये प्री-हड़प्पाकालीन सभ्यता के अवशेष है। सैटलाइट फोटो से भी इस क्षेत्र में नदी प्रवाह के स्पष्ट संकेत मिल चुके हैं। यहां नदी की खुदाई व रिपोर्ट बनाने तक का काम केंद्रीय पुरातत्व विभाग देखेगा। एकबार सारा काम पूरा होने के बाद खुदाई के दौरान मिलने वाले अवशेष व रिपोर्ट की प्रतिलिपि हरियाणा पुरातत्व विभाग के सुपुर्द कर दी जाएगी।

हड़प्पाकालीन सभ्यता की मिलेगी और जानकारी
सोलंकी ने बताया कि फतेहाबाद जिले के कस्बा रतिया का गांव कुनाल प्राचीनतम हड़प्पाकालीन स्थलों में से एक है। उन्होंने कहा कि इस खुदाई का उद्देश्य इस स्थल की प्राचीन भौतिक संस्कृति को उजागर करना है। जहां मुख्य अवस्थापित क्षेत्र तीन-चार एकड़ है जबकि विस्तारित क्षेत्र नौ एकड़ है।

उन्होंने बताया कि गांव कुनाल ने शुरुआती हड़प्पा सभ्यता के अध्ययन में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और यहां खुदाई किए जाने से उत्कृष्ट हड़प्पा संस्कृति के उदय और इसके प्राचीन चरणों पर भविष्य में अनुसंधान के नए द्वार खुलेंगे। इस स्थल पर पहले की गई खुदाई में विकसित जल निकासी प्रणाली के अवशेष मिले थे। इस खुदाई का उद्देश्य इस स्थल की प्रारंभिक भौतिक संस्कृति को उजागर करना है और इससे हजारों वर्ष पुरानी सभ्यता के इतिहास का पता चलेगा।

प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल एवं हरियाणा के पुरातत्व और संग्राहलय मंत्री रामबिलास शर्मा के निर्देशों पर प्रदेश के अधिकारियों के साथ-साथ केंद्र सरकार के पुरातत्व विभाग के अधिकारियों की निगरानी में खुदाई का आरंभ किया गया है। खुदाई के लिए मंत्री रामबिलास शर्मा की मौजूदगी में 2 दिन पहले ही हरियाणा राज्य पुरातत्व और संग्रहालय विभाग और भारतीय पुरातत्व समिति के बीच एक समझौता हुआ था।

Share With:
Rate This Article