पाकिस्तान में PSL की वापसी, सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम

पाकिस्तान और विश्व क्रिकेट के लिए 3 मार्च 2009 का दिन बेहद मनहूस था, जब लाहौर में श्रीलंकाई क्रिकेट टीम की बस पर आतंकियों ने हमला किया। इस घटना के बाद किसी शीर्ष टीम ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया। अब आठ साल के लंबे अंतराल के बाद पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) के फाइनल के साथ यहां स्टार खिलाड़ी खेलते नजर आएंगे।

लाहौर में सुरक्षा के कारण कर्फ्यू जैसे हालात है लेकिन इसके बाद भी कई दिग्गज खिलाड़ियों ने सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान में खेलने से इंकार कर दिया। फाइनल मुकाबला 5 मार्च को लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में खेला जाएगा।

सुरक्षा चाक-चौबंद: पीएसल टी-20 का फाइनल के लिए लाहौर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। इस कारण शहर में कफ्र्यू जैसे हालात हैं। पिछले महीने लाहौर में हुए आतंकी हमले में 13 लोगों की मौत हुई थी।

सैमी सहित पांच खेलने को तैयार: वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान डरेन सैमी पाक में खेलने को तैयार हैं। उनके अलावा इंग्लैंड के डेविड मालरेन, क्रिस जॉर्डन, समित पटेल और ¨वडीज के मालरेन सैमुअल्स ने लाहौर में खेलने को मंजूरी दे दी है।

पीटरसन, मिल्स नहीं खेलेंगे: लीग में शिरकत कर रही क्वेटा ग्लेडिएटर्स की टीम फाइनल में जगह बना चुकी है।

क्वेटा टीम के विदेशी खिलाड़ी इंग्लैंड के केविन पीटरसन, टाइमल मिल्स, ल्यूक राइट और दक्षिण अफ्रीका के रिली रोसो ने इसमें खेलने से इंकार कर दिया। टूर्नामेंट के सभी मैच दुबई और शारजाह में खेले गए । सिर्फ फाइनल लाहौर में होगा।

इमरान और मियांदाद को बुलावा नहीं भेजा
पाक क्रिकेट बोर्ड ने फाइनल के लिए जावेद मियांदाद, अब्दुल कादिर, इमरान खान, सरफराज नवाज जैसे दिगग्ज खिलाड़ियों को निमंत्रण नहीं दिया है। माना जा रहा है कि इन खिलाड़ियों के पीसीबी के अलावा पीएसएल लीग के चेयरमैन नजम सेठी के साथ रिश्ते अच्छे नहीं रहे हैं।

बहादुर बस ड्राइवर खलील को टिकट नहीं मिला
2009 आंतकी हमले में श्रीलंकाई टीम के बस ड्राइवर मेहर मोहम्मद खलील पीएसएल के फाइनल का टिकट खरीदने में विफल रहे। खलील की बहादुरी से ही श्रीलंकाई टीम आतंकी हमले से बचने में सफल हुई थी। खलील ने कहा, मैंने बोर्ड के कई लोगों से संपर्क किया लेकिन सभी ने व्यस्त होने का हवाला दिया।

Share With:
Rate This Article