‘किसी को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने से नहीं रोका, लेकिन कानून हाथ में नहीं लेने देंगे’

चंडीगढ़

एक ओर जहां, जाट आंदोलनकारी अपनी मांगों को लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने पहुंच रहे हैं, वहीं दूसरी ओर, सूबे के सीएम मनोहर लाल ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा है कि किसी को भी कानून हाथ में नहीं लेने दिया जाएगा.

बजट सत्र के दौरान सदन को संबोधित करते हुए विधानसभा में सीएम मनोहर लाल ने कहा, सरकार ने कभी भी किसी को शांतिपूर्वक धरना देने से नहीं रोका. लेकिन जाट समुदाय के धरने के दौरान आपत्तिजनक भाषणों का इस्तेमाल किया जा रहा है, जो ठीक नहीं है.

इसके बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए सीएम मनोहर लाल ने कहा, जाट आंदोलन के माध्यम से कुछ लोग वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अगर विपक्ष तैयार होता है तो हम विधानसभा की एक कमेटी बनाकर जाट प्रतिनिधियों से बात करेंगे.

उन्होंने कहा कि हम सभी मुद्दों पर जाट समुदाय के लोगों से बात करने को तैयार हैं. उन्होंने कहा, जाट आंदोलन के दौरान हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होगी, क्योंकि कोर्ट पूरे मामले की मॉनिटरिंग कर रहा है.

वहीं, कैप्टन अभिमन्यु का कहना है कि जब सरकार बातचीत के लिए तैयार है तो फिर जाट आंदोलन का कोई औचित्य नहीं है.

Share With:
Rate This Article