माल्या मुद्दे पर ब्रिटिश पीएम ने जेटली के साथ कैंसल की मीटिंग

लंदन

ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे ने विजय माल्या को भारत को सौंपने के मुद्दे पर अरुण जेटली से मीटिंग कैंसल कर दी। इस मुद्दे पर जेटली की ब्रिटेन के फाइनेंस मिनिस्टर फिलिप हेमंड से बात होनी थी। बता दें कि माल्या पिछले साल 2 मार्च को ब्रिटेन चले गए थे। उनपर बैंकों का 9 हजार करोड़ रु. का कर्ज है। भारत सरकार माल्या को भगोड़ा करार दे चुकी है।

जेटली की हेमंड से 11, डाउनिंग स्ट्रीट में हुई मुलाकात
– अफसरों के मुताबिक, “जेटली ने हेमंड से उनके ऑफिस 11, डाउनिंग स्ट्रीट में मुलाकात की।”
– “दोनों लीडर्स की मुलाकात में ब्रैग्जिट और भारत-यूके रिलेशन पर उसके असर और माल्या के कई महीनों से ब्रिटेन में रहने को लेकर चर्चा होनी थी। लेकिन इस मुद्दे पर कोई चर्चा नहीं हुई।”
– “पिछले साल नवंबर में मे भारत दौरे पर आई थीं। उन्होंने भारत को यूरोप से बाहर अपने पहले दौरे के लिए चुना था। इसमें साफतौर पर कहा गया गया था कि ब्रिटेन यूरोपीय यूनियन से बाहर बिजनेस करने को तरजीह देगा।”
– इससे पहले फरवरी की शुरुआत में भारत सरकार ने ब्रिटेन से रिक्वेस्ट की थी कि वो माल्या को भारत भेजे ताकि उस पर लोन डिफॉल्ट केस में कार्रवाई शुरू की जा सके।

जेटली-हेमंड के बीच क्या हुई मुलाकात?
– जेटली-हेमंड के बीच हुई मुलाकात में भारत-यूके इकोनॉमिक एंड फाइनेंशियल डायलॉग और नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड के तहत आने वाले इंडिया-यूके सब फंड को लेकर बात हुई। बता दें कि आने वाले दिनों में दोनों देशों के बीच फाइनेंशियल डायलॉग होने वाला है।
– इससे पहले जेटली ने ब्रिटेन के कई इन्वेस्टर्स से मुलाकात की। इसे जेपी मॉर्गन ने ऑर्गनाइज किया था।
– जेटली ने बताया, “हमने भारत के फाइनेंशियल सिस्टम के खिलाफ डिफॉल्टर्स के मुद्दे उठाए।”
– “अगर कोई फाइनेंशियल सिस्टम को धोखा देता है तो भारत सरकार उसके खिलाफ कार्रवाई करेगी। कुछ लोग डिफाल्टर्स अपनी मजबूत स्थिति में हैं और दूसरे देशों के नियमों का फायदा उठा रहे हैं।”

Share With:
Rate This Article