गुरमेहर के समर्थक पाकिस्तान के समर्थक, उन्हें देश में रहने का हक नहीं: अनिल विज

चंडीगढ़

शहीद की बेटी गुरमेहर कौर ने भले ही कैंपेन से खुद को अलग कर लिया हो और अपने को अकेला छोड़ने की बात कही हो, लेकिन उनके बयान पर माहौल अब भी गर्म है.

इस बयानबाजी में अब हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज भी कूद गए हैं. उन्होंने पूरे मामले में बयान देते हुए कहा है कि जो लोग गुरमेहर का समर्थन कर रहे हैं वह पाकिस्तानी हैं.

विज ने कहा कि गुरमेहर कौर अपने पिता की शहादत पर राजनीति करने की कोशिश कर रही हैं. यह निंदनीय है. पाकिस्तान प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से भारत से लड़ाई लड़ता रहा है. ऐसे में एक शहीद की बेटी पाकिस्तान को क्लीन चिट दे रही है, जो उचित नहीं है. विज यहीं नहीं रुके. उन्होंने कहा कि जो लोग गुरमेहर कौर का समर्थन कर रहे हैं वह पाकिस्तानी हैं. ऐसे लोगों को देश में रहने का कोई अधिकार नहीं है.

उधर, जींद में सांसद दुष्यंत चौटाला ने दिल्ली यूनिवर्सिटी में वामपंथी और एबीवीपी के आपस के संघर्ष की शिकार हुई गुरमेहर कौर के ट्वीट का समर्थन किया. उन्होंने कहा कि कोई पाकिस्तानी नहीं चाहता कि हर हिन्दुस्तानी व्यक्ति मरे और न ही कोई हिन्दुस्तानी चाहता की हर पाकिस्तानी मरे.

बता दें, दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) की छात्रा गुरमेहर कौर ने रामजस कॉलेज के घटनाक्रम के बाद बढ़ते विवाद को देखते हुए अपनी मुहिम समाप्त कर दी है. मंगलवार सुबह सात बजे गुरमेहर ने ट्वीट कर कहा है कि अब वह अपनी मुहिम पर विराम लगा रही हैं.

गुरमेहर ने ट्विटर पर लिखा- ‘सबको मुबारकबाद. अब मैं अपनी मुहिम को समाप्त कर रही हूं. मेरी अपील है कि अब मुझे अकेला छोड़ दिया जाए. मैंने जो कहना था, कह दिया है. अब यह पक्का है कि हिंसा करने वाले और धमकाने वाले ऐसा करने से पहले कम से कम दो बार जरूर सोचेंगे. मेरा मकसद बस इतना ही है.’

उनके इस मैसेज पर कुछ लोगों ने खिल्ली उड़ाते हुए प्रतिक्रिया दी. इस पर गुरमेहर ने फिर ट्वीट कर जवाब दिया- ‘मेरे हौसले और बहादुरी पर सवाल करने वालों को मैं बता देना चाहती हूं कि मैंने अब तक जितना हो सकता था, हौसला दिखाया है. एक बीस साल की लड़की जितना जबरदस्त हौसला दिखा सकती है, मैंने दिखाया है.’

गुरमेहर ने कहा, ‘यह मुहिम मेरे बारे में नहीं है, विद्यार्थियों के लिए चलाई गई है. मेरी गुजारिश है कि भारी संख्या में विद्यार्थियों के मार्च में शामिल होकर इसे कामयाब बनाएं.’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘अब मुझे प्लीज अकेला छोड़ दो. अब मेरे मोबाइल या सोशल साइट्स पर मैसेज न करें. अब मैं घटनाक्रम के बाद खुद पर पड़े प्रभाव से दूर रहकर सुकून के पल बिताना चाहती हूं.’

गुरमेहर ने सोशल मीडिया से मुहिम के पोस्टर वाली डीपी (डिसप्ले पिक्चर) हटाकर कैफेटेरिया में कोल्ड कॉफी पीते हुए एक फोटो पोस्ट की है. गुरमेहर के विचारों का समर्थन करने वालों की संख्या भी बढ़ रही है. मीडिया में उनकी सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है.

Share With:
Rate This Article