वाह ! 45 साल बादल मिशन मून पर जाएंगे टूरिस्ट

अमेरिका की प्राइवेट स्पेस एजेंसी स्पेसएक्स अगले साल दो टूरिस्ट को चंद्रमा पर भेजेगी। यह पहला मौका होगा जब टूरिस्ट को चंद्रमा पर भेजा जाएगा। 45 साल बाद कोई इंसान चंद्रमा पर पहुंचेगा।

पिछले मिशन से तेज होगी स्पीड
– स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क ने कहा, “हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि दो प्राइवेट सिटिजन्स ने (चंद्रमा के लिए) उड़ान भरने को लेकर हमसे कॉन्टेक्ट किया है। यह मिशन अगले साल के आखिरी तक भेजा जाएगा।”
– “इंसान के लिए 45 साल बाद डीप स्पेस में वापसी का यह मौका होगा। वे सोलर सिस्टम में पहले से कहीं तेज और आगे ट्रैवल करेंगे।”

टूरिस्ट के नाम नहीं बताए
– मस्क ने कहा, “चंद्रमा पर जाने वालों ने काफी कुछ पेमेंट भी कर दिया है।”
– हालांकि, चंद्रमा पर जाने वाले दोनों टूरिस्ट का स्पेसएक्स ने नाम उजागर नहीं किया है।
– टूरिस्ट की ट्रेनिंग और हेल्थ टेस्ट इस साल के आखिरी तक शुरू हो जाएंगे।

SpaceXरॉकेट ने जमीन पर की थी लैंडिंग
– स्पेसएक्स का कार्गो शिप हाल ही में इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर रसद लेकर रवाना हुआ था।
– बाद में स्पेसएक्स रॉकेट ने जमीन पर सीधी लैंडिंग की थी। यह पहला मौका था, जब किसी रॉकेट को जमीन पर लैंड कराया गया था।
– इससे पहले स्पेसएक्स ने अपना रॉकेट समुद्र में बने प्लेटफॉर्म पर लैंड कराने में कामयाबी हासिल की थी।

1969 में पहली बार चंद्रमा पर पहुंचा था इंसान
– अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा ने 16 जुलाई 1969 को चंद्रमा पर अपोलो-11 स्पेसक्राफ्ट भेजा था।
– इससे एस्ट्रोनॉट नील आर्मस्ट्रॉन्ग, एल्विन एल्ड्रिन और माइकल कॉलिंस को भेजा गया था।
– 20 जुलाई 1969 को आर्मस्ट्रॉन्ग चंद्रमा पर कदम रखने वाले पहले इंसान बने। उनके बाद एल्विन एल्ड्रिन चंद्रमा पर उतरे।
– उनके साथी माइकल कॉलिंस चंद्रमा पर नहीं उतरे थे। वे स्पेसक्राफ्ट से फोटो ले रहे थे और एक्सपेरिमेंट्स कर रहे थे।

आखिरी मून्ड मिशन 45 साल पहले गया था
– इससे पहले 11 दिसंबर 1972 को आखिरी बार चंद्रमा पर इंसान ने कदम रखे थे।
– 7 दिसंबर 1972 को अपोलो-17 स्पेसक्राफ्ट से यूगीन सरनन, रोनाल्ड इवान्स और हैरिसन स्किमिट चांद पर भेजे गए थे।
– बता दें कि यूगीन सरनन का इस साल जनवरी में ही निधन हुआ है। वो चांद पर कदम रखने वाले आखिरी शख्स थे।

Share With:
Rate This Article