पंजाब समेत दूसरे राज्यों में ठगी करने वाला ‘बिल्डर बाबा’ गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने दिल्ली, यूपी और पंजाब में करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले बिल्डर बाबा को रविवार को लखनऊ से गिरफ्तार किया है। महामंडलेश्वर उर्फ सचिदानंद गिरी महाराज के नाम से मशहूर आरोपी 36 वर्षीय सचिन दत्ता लखनऊ के गोमती नगर एक्सटेंशन में छुपकर रह रहा था। आरोपी बाबा पर दिल्ली की आर्थिक अपराध शाखा(ईओडब्लू) में भी साढ़े ग्यारह करोड़ रुपये की ठगी करने का मामला दर्ज है। वहीं नोएडा में भी बिक चुकी प्रॉपर्टी पर मोटा लोन लेने का आरोप है। दोनों ही मामलों में कोर्ट ने आरोपी को भगोड़ा घोषित किया हुआ था। दिल्ली पुलिस ने उससे संबंधित पुलिस थानों को उसकी गिरफ्तारी की सूचना दे दी है।

डीसीपी डॉक्टर अजीत कुमार सिंगला ने बताया कि रविवार को डीआईयू की टीम धोखाधड़ी के एक मामले की जांच के लिए लखनऊ गई थी। लखनऊ में जांच के दौरान टीम को सूचना मिली कि दिल्ली में ईओडब्ल्यू में दर्ज साढ़े ग्यारह करोड़ रुपये की ठगी का भगोड़ा आरोपी बाबा महामंडलेश्वर गोमती नगर एक्सटेंशन में रह रहा है। फिर आरोपी सचिन दत्ता को पुलिस ने धर दबोच और सोमवार शाम उसे लेकर दिल्ली पहुंची। ठगी करने के बाद वह नोएडा से लखनऊ फरार हो गया था। वहां वह मीट, गत्ते और गुटके की फैक्टरी लगाने का विचार कर रहा था।

डिस्को कम बार चलाता है आरोपी
पूछताछ में आरोपी ने यह खुलासा किया है कि वह नोएडा के सेक्टर-18 स्थित सेंटर स्टेज मॉल में ‘क्वांटम द लीप’ नाम से डिस्को कम बार चलाता है। इसके अलावा इसकी बालाजी कंस्टे्रक्शन के नाम से अपनी कंपनी है। जिसने इंदिरापुरम में बालाजी रेजिडेंसी और गाजियाबाद में फॉस्टर हाइट्स नाम से अपार्टमेंट बताया है।

दो साल पहले आरोपी बना महामंडलेश्वर
आरोपी सचिन को करीब डेढ़ साल पहले को बागमबरी मठ, इलाहाबाद में हुए एक समारोह के दौरान अखाड़ा परिषद् की ओर से महामंडलेश्वर की पदवी दी गई थी। बाद में उसे सचिदानंद गिरी महाराज का नाम दिया गया था। लेकिन एक सप्ताह के भीतर ही उसकी पदवी विवादों में घिर गई थी और एक सप्ताह में ही उसकी पदवी छीन भी ली गई थी।

दिल्ली के ईओडब्ल्यू दर्ज हुआ था मामला
आनंद विहार निवासी नरेंद्र बरमेचा की वर्ष- 2011 में आरोपी सचिन दत्ता, उसकी मां तृप्ता, पिता आरके दत्ता से हुई थी। सचिन उस समय बिल्डर बाबा व बालाजी कंस्ट्रेक्शन के मालिक के रूप में जाना जाता था। इन सब के जरिये उसकी मुलाकात नत्थू त्यागी और उसके बेटे सचिन त्यागी से हुई थी। यह सारे लोग मानकपुर, नोएडा में कोई प्रोजेक्ट चला रहे थे। नरेंद्र को इस प्रोजेक्ट में पार्टनर बनाकर उससे साढ़े ग्यारह रुपये ठग लिए थे। इस संबंध में ईओडब्लू में दर्ज मामले में कोर्ट उसे भगोड़ा घोषित कर दिया था।

पंजाब पुलिस को भी थी आरोपी की तलाश
आरोपी सचिन दत्ता ने खुलासा किया है कि उसने पांटी चढ्डा के दो रिश्तेदार रमनदीप और कमलदीप के साथ मिलकर भी जालंधर, पंजाब में भी काम किया था। इसमें भी उसपर ठगी करने का आरोप लगा है। इस कारण पंजाब पुलिस भी उसकी तलाश में छापेमारी कर रही थी।

बिकी हुई सोसाइटी पर लिया था करोड़ो का लोन
इंदिरापुरम में अपनी बिकी हुई सोसायटी पर आरोपी ने करोड़ो का लोन लिया था। उसके खिलाफ नोएडा के सेक्टर-58 थाने में ठगी का मामला दर्ज कराया गया था। कोर्ट की तरफ से इस मामले में भी आरोपी को भगोड़ा घोषित किया गया है। उसकी तलाश में यूपी, दिल्ली व पंजाब पुलिस छापेमारी कर रही थी।

Share With:
Rate This Article