यूपी में 5वें चरण के लिए वोटिंग खत्म, 11 जिलों की 51 सीटों पर डाले गए वोट

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के पांचवें चरण में सोमवार को नेपाल से लगे तराई और पूर्वी उत्तर प्रदेश के 11 जिलों की 51 सीटों पर वोट डाले गए. मतदान का यह दौर समाजवादी पार्टी और बीजेपी दोनों के लिए बहुत अहम है. बीजेपी को सत्ता तक पहुंचने के लिए और सपा को अपनी सत्ता बचाने के लिए. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के लिए पांचवां फेज ‘करो या मरो’ जैसा है. जिन 51 सीटों पर मतदान हुआ  है, साल 2012 में उनमें से 37 सीटें सपा ने जीती थीं.

सपा इस बार पांचवें चरण की सभी सीटों पर खुद नहीं लड़ रही, बल्कि 14 पर गठबंधन की साथी कांग्रेस भी मैदान में है. चार सीटों पर तो दोनों आमने-सामने भी हैं. ऐसे में एक-दूसरे से हार कर भी जीतना है. पांचवें दौर में सपा के अभय सिंह की किस्मत का फैसला होना है, जिनके खिलाफ 26 मुकदमे हैं और भ्रष्टाचार के आरोप से घिरे गायत्री प्रजापति भी जिन पर रेप का मुकदमा भी दर्ज हो गया है. न सिर्फ सपा या बसपा, बल्कि बीजेपी को भी एहसास है कि अब सत्ता का रास्ता पूर्वांचल होकर ही गुज़रेगा.

इस चरण में बलरामपुर, गोण्डा, फैजाबाद, अंबेडकरनगर, बहराइच, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संत कबीरनगर, अमेठी और सुल्तानपुर जिले की विधानसभा सीटें शामिल थे. पांचवें चरण में करीब 83 लाख 80 हजार महिलाओं समेत कुल एक करोड़ 81 लाख 71 हजार 826 मतदाता 12 हजार 555 मतदान केंद्रों पर अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. पांचवें चरण में 40 महिलाओं समेत कुल 607 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. अमेठी में सबसे अधिक 24 उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं. अंबेडकरनगर के आलापुर में सपा प्रत्याशी चंद्रशेखर कनौजिया के निधन के कारण चुनाव आयोग ने यहां मतदान की तारीख 9 मार्च निर्धारित की है.

Share With:
Rate This Article