पांच वक्त की नमाज करनी होगी, तभी बढ़ेगी PoK में कोर्ट कर्मचारियों की सैलरी

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में स्थित अदालत के कर्मचारियों का वेतन तभी बढ़ेगा, जब वह वक्त पर पांचों वक्त नमाज पढ़ा करेंगे. यहां के एक शीर्ष न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा है कि इन कर्मचारियों को कोर्ट और उसके बाहर रोजाना बिल्कुल समय पर नमाज पढ़नी पड़ेगी, क्योंकि उनके वेतन में होने वाला सालाना इजाफा नमाज पढ़ने पर ही निर्भर करेगी.

एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने इस संबंध में अपनी रिपोर्ट में बताया कि PoK स्थित सुप्रीम कोर्ट के 12वें चीफ जस्टिस की शपथ लेने वाले जस्टिस इब्राहिम जिया ने कर्मचारियों को कोर्ट और नमाज के वक्त को लेकर पाबंद होने का निर्देश दिया है. उन्होंने कहा, कोर्ट कर्मचारियों की वेतन वृद्धि वृद्धि अब पांचों वक्त पर पाबंदी से नमाज पढ़ने पर ही निर्भर करेगी.

बता दें कि इस्लाम में सभी मुसलमानों के लिए दिन के पांच वक्त नमाज पढ़ना फर्ज़ बताया गया है और इसी की तरफ इशारा करते हुए जस्टिस जिया ने ऐलान किया कि अदालत के सभी कर्मचारियों के लिए भी वक्त पर नमाज पढ़ना जरूरी है.

Share With:
Rate This Article