‘लिपस्टिक अंडर माई बुर्का’ का जिक्र आते ही शाहरुख ने साध ली चुप्पी

मुंबई

हाल ही में केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड ने अलंकृता श्रीवास्तव के निर्देशन में बनी फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माई बुर्का’ को प्रमाणपत्र देने से इनकार कर दिया है. सेंसर बोर्ड ने फिल्म के महिला केंद्रित होने और महिलाओं की फैंटसीज पर आधारित होने को बैन का कारण बताया है.

फरहान अख्तर, कबीर खान, नीरज घायवान, सुधीर मिश्रा, रेणुका शहाणे जैसे सितारों ने इस बैन का विरोध किया है. वहीं अभिनेता शाहरुख खान से जब इस बारे में सवाल किया किया गया तो उन्होंने चुप्पी साध ली.

उन्होंने कहा कि उन्हें इस बारे में कुछ भी नहीं पता है. इस बारे में शाहरुख खान ने कहा, आप मुझसे उत्तर प्रदेश की राजनीति के बारे में सवाल पूछ सकते हैं. मुझे इस बारे में कुछ भी नहीं पता है क्योंकि मैं छुट्टी पर था. मैं कुछ नहीं जानता.

प्रकाश झा के प्रोडक्शन के तहत बनी इस फिल्म की स्क्रीनिंग कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सवों में हुई है और ज्यादातर जगहों पर इसे अच्छी प्रतिक्रिया भी मिली है. इस फिल्म को टोक्यो इंटरनेशनल फिल्म महोत्सव में ‘स्पिरिट ऑफ एशिया’ पुरस्कार से भी नवाजा गया है. फिल्म में कोंकणा सेन शर्मा, रत्ना पाठक शाह, विक्रांत मैसी, अहाना कुमरा, प्लाबिता बोरठाकुर और शशांक अरोड़ा ने महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाई हैं.

फिल्म की निर्देशक अलंकृता श्रीवास्तव ने सेंसर बोर्ड के इस फैसले को महिलाओं के अधिकार पर हमला बताया था. वहीं फिल्म के प्रोड्यूसर प्रकाश झा ने सेंसर बोर्ड पर आरोप लगाते हुए कहा था कि बोर्ड अपने हिसाब से नियमों के मतलब निकालता है.

उन्होंने इस बैन के खिलाफ ट्रिब्यूनल में अपील करने की बात भी कही है. बताते चलें कि सेंसर बोर्ड इससे पहले प्रकाश झा की ‘राजनीति’ और ‘जय गंगाजल’ को भी एडिट के साथ रिलीज करने के निर्देश दे चुका है.

Share With:
Rate This Article