विदेश में पंजाबियों को किडनैप करने वाले तीन इंटरनेशनल गैंगस्टर गिरफ्तार

अमृतसर

स्पैशल टास्क फोर्स और गैंगस्टरों के बीच हुई मुठभेड़ के उपरांत आज ब्यास से 3 अंतर्राष्ट्रीय गैंगस्टरों सिमरनजीत उर्फ गग्गी निवासी जगराऊं व उसके साथी बलदेव सिंह, गुरजीत सिंह निवासी बरनाला को गिरफ्तार कर लिया गया है। इन गैंगस्टरों के कब्जे से 315 बोर की एक टैलीस्कोपिक राइफल, 32 बोर की एक पिस्तौल व एक अन्य राइफल बरामद हुई है।

उक्त आरोपियों ने गत 19-20 फरवरी की मध्य रात्रि बरनाला के बदौड़ क्षेत्र में जगियाना गांव के रहने वाले राज बहादुर के घर पर अंधाधुंध फायरिंग की थी। राज बहादुर के साथ उक्त गैंगस्टरों की पुरानी रंजिश थी। वारदात के उपरांत उक्त गैंगस्टर विभिन्न क्षेत्रों में छुपने का ठिकाना ढूंढ रहे थे मगर इसकी भनक एस.टी.एफ. को लग गई और तुरंत टीमों का गठन कर गैंगस्टरों को गिरफ्तार करने के लिए आप्रेशन शुरू कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। यह खुलासा आज एस.टी.एफ. के आई.जी. कुंवर विजय प्रताप सिंह ने एक पत्रकार सम्मेलन के दौरान किया जिनके साथ ए.सी.पी. एस.टी.एफ. मनिन्द्र बेदी भी थे।

कुंवर विजय प्रताप सिंह ने बताया कि जब अंधाधुंध फायरिंग करने वाले उक्त गैंगस्टरों की पहचान हुई तो उसमें यह खुलासा हुआ कि 2013 में उक्त गैंगस्टरों ने माछीवाड़ा निवासी मनमोहन सिंह खेहरा, लांडरा निवासी गुरजिन्द्र सिंह ढिल्लों और चंडीगढ़ निवासी सतविन्द्र सिंह मावी को हांगकांग बुलाकर उन्हें किडनैप किया था। इस मामले में इन गैंगस्टरों के विरुद्ध पंजाब व हांगकांग में केस दर्ज किया गया था। गिरफ्तार किए गए गैंगस्टरों का साथ देने वाले नवजोत सिंह, पुलिस चौकी कौंकेकलां के मुंशी अमनदीप सिंह व मोगा स्थित बाबा फरीद गन हाऊस चलाने वाले पर भी कार्रवाई की जा रही है।  आई.जी. ने बताया कि उक्त गैंगस्टरों से बरामद हथियार नवजोत सिंह के नाम पर हैं जिसे अभी गिरफ्तार नहीं किया गया।

Share With:
Rate This Article