अगर ऐसा ही चलता रहा, तो भारत में हो जाएगी दूध की कमी

भारत इस समय दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश है, लेकिन अगर हालात नहीं बदले तो बहुत जल्द भारत को दूध का आयात करना पड़ सकता है। भारत के 29.90 करोड़ दुधारू पशुओं के लिए चारे की कमी इसका सबसे बड़ा बड़ा कारण है। फिलहाल भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश है। पूरी दुनिया के कुल दूध उत्पादन में भारत का हिस्सा 17 प्रतिशत है।

इंडियास्पेंड का आंकड़ों के अनुसार भारत में दूध और दूध से बने उत्पाद की मांग तेजी से बढ़ रही है। सरकारी अनुमान के अनुसार साल 2021-22 तक इस मांग को पूरा करने के लिए देश को 21 करोड़ टन दूध की जरूरत होगी। यानी आने वाले पांच सालों में भारत में दूध की मांग में 36 प्रतिशत बढो़तरी हो जाएगी। स्टेट ऑफ इंडिया लाइवलिहुड (एसओआईएल) की रिपोर्ट के अनुसार इस मांग को पूरा करने के लिए दूध उत्पादन में हर साल 5.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी चाहिए होगी। साल 2014-15 और साल 2015-16 में दूध के उत्पादन में क्रमशः 6.2 प्रतिशत और 6.3 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई।

सरकारी आंकड़े के इंडियास्पेंड के विश्लेषण के अनुसार दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए भारत को साल 2020 तक 1764 टन अतिरिक्त पशु चारे की जरूरत होगी लेकिन मौजूदा संसाधनों के आधार पर केवल 900 टन पशु चारा ही उपलब्ध हो सकेगा। यानी जरूरत का केवल 49 प्रतिशत पशु चारा ही भारत के पास उपलब्ध होगा।

Share With:
Rate This Article