जालंधर में ट्रिपल मर्डर, कई सवालों में उलझी पुलिस

जालंधर

लाजपत नगर में हुए तिहरे हत्याकांड का सुराग घर में ही है। ऐसा अनुमान पुलिस द्वारा की गई शुरूआती जांच से लगाया जा रहा है। घर के सी.सी.टी.वी. कैमरे बीते दिन ही बन्द होना, कातिलों का घर में घुसना और पिछले गेट, जो आमतौर पर लॉक होता है वहां से बाहर निकल जाना, ऐसे कई सवाल पुलिस अधिकारियों को यह सोचने को मजबूर कर रहे हैं कि वारदात का सुराग घर में ही है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि वारदात सोची-समझी साजिश का हिस्सा ही है। इसके बावजूद पुलिस विभिन्न ऐंगल से जांच कर रही है।

जालंधर में ट्रिपल मर्डर, कई सवालों में उलझी पुलिस

पुलिस जांच के मुताबिक कातिल बेहद आराम से घर में घुसे जिससे अनुमान लगाया जा रहा है कि कातिल परिचित ही थे। कातिलों ने वारदात के पश्चात घर का दरवाजा भीतर से बन्द किया और पिछले गेट से भाग गए। जबकि पिछला गेट आम तौर पर लॉक ही रहता है। लॉक खोल कर भागने से अनुमान लगाया जा रहा है कि कातिलो को जानकारी थी कि पिछले गेट की चाबी घर में कहां होती है।

इसके अतिरिक्त महिलाओं द्वारा पहने गहने तथा घर का कीमती सामान ज्यों त्यो पड़ा होने के कारण स्पष्ट है कि वारदात का कारण लूट नहीं है। बताया गया है कि घर में लगे सी.सी.टी.वी. कैमरे बीते दिन ही खराब हुए। लेकिन चर्चा यहा तक है कि पुलिस जाच में कैमरो की वायर भी कटी मिली है। एक साथ सभी कैमरे खराब होना भी पुलिस थ्यौरी को पक्का कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक घर की नौकरानी रिना ने भी पुलिस अधिकारियों को बताया है कि वह दोपहर 2 बजे काम पर आई और काम खत्म कर लौट गई। रिना ने पुलिस अधिकारियों को घरेलू कलह के बारे में भी जानकारी दी है। पुलिस ने इस ऐंगल से भी जांच शुरू की है।

जालंधर में ट्रिपल मर्डर, कई सवालों में उलझी पुलिस

मार डालने की नीयत से ही आए कातिल
तीनों महिलाओं के सिर में ही गोली मारी गई। घटनास्थल से मिले कारतूस खोल और जिन्दा कारतूस से अनुमान लगाया जा रहा है कि वारदात मे देसी वैपन का प्रयोग नहीं हुआ? पुलिस जांच कर रही है कि घर के मालिक का असला जमा है या नहीं? घटनास्थल पर देखा गया कि घर में कीमती सामान जैसे ज्यूलरी, नकदी व अन्य सामान जैसे तैसे था, लेकिन एक कमरे में कुछ सामान बिखरा हुआ पाया गया। ऐसा लग रहा है कि पुलिस की जांच की दिशा भटकाने के लिए सामान उथल पुथल किया गया। हालात ईशारा कर रहे है कि  वारदात का कारण लूट नहीं था। बल्कि हत्या ही थी।

खून से सना फर्श, घर में बिखरे पड़े थे ब्रेन के लौथड़े
घटनास्थल का मंजर बेहद ही भयानक था। घर के भीतर लॉबी, कमरो में खून ही खून था। घर का फर्श खून से सना हुआ था। गोली इतने पास से मारी गई कि महिलाओं के ब्रेन के लौथड़े घर में बिखरे पड़े थे। इसी कारण से परमजीत कौर का ब्रेन डैड बताया गया है। क्योंकि गोली लगने के कारण ब्रेन का काफी हिस्सा बाहर आ चुका है।

पुलिस खंगाल रही है ईलाकेके सी.सी.टी.वी. कैमरे
पुलिस कमिश्नर के निर्देशों पर वारदात के तुरंत बाद मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने घटनास्थल के आसपास के इलाके में लगे सी.सी.टी.वी. कैमरे खंगालने शुरू कर दिए हैं। पुलिस टीमों द्वारा कई कोठियों में जाकर सी.सी.टी.वी. कैमरो की फुटेज हासिल की गई है। देर रात तक पुलिस को अहम फुटेज हाथ नहीं लगी थी।

बेचारी नीतू….सहेली से मिलने आई थी
वारदात में कातिलों का शिकार बनी खुशविन्द्र उर्फ कौर नीतू तो अपनी सहेली परमजीत कौर को मिलने आई थी। उसे क्या पता था कि मौत का काल उसकी प्रतीक्षा कर रहा है। जानकारी के मुताबिक गुरू नानक मकैनीकल वक्र्स लक्ष्मी सिनेमा बलजिन्द्र सिंह कारोबारी की पत्नी खुशविन्द्र वासी लिंक कालोनी आज दोपहर बाद सहेली से मिलने आई थी। बताया जा रहा है कि खुशविन्द्र अक्सर परमजीत कौर के पास आती थी। कुछ देर रूकने के बाद वापस लौट जाती। पता चला है कि आज भी वह घर पर कह कर आई कि वह परमजीत से मिल कर आती है। बताया जा रहा है कि वह करीब 5 बजे ही परमजीत के घर पहुंची थी और कुछ देर बाद ही वारदात हो गई।

Share With:
Rate This Article