‘अगर मई तक कॉलेज का निर्माण कर दिया तो कंपनी को देंगे गोल्ड मेडल’

नाहन

प्रदेश सरकार द्वारा ग्रामीण इलाकों में प्राथमिकता के आधार पर शिक्षण संस्थान खोले जा रहे हैं, ताकि राज्य के दूरदराज वाले क्षेत्रों में युवाओं को घर-घर पर उच्च शिक्षा मिल सके. खासकर प्रदेश की बेटियां जो उच्च शिक्षा के लिए बाहर नहीं जा सकती उनको शिक्षित करना सरकार की पहली प्राथमिकता है. यह बात मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कही.

तीन दिवसीय सिरमौर प्रवास के पहले दिन नाहन पहुंचे मुख्यमंत्री देर शाम को जिला मुख्यालय नाहन स्थित यशवंत विहार में निर्माणाधीन स्नातकोत्तर महाविद्यालय भवन का निर्माण कार्य का अवलोकन कर रहे थे. इस अवसर पर निर्माण करने वाली कंपनी को मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि मई तक महाविद्यालय का कार्य पूरा किया जाए.

उन्होंने कहा कि यदि मई तक भवन निर्माण का कार्य मुकम्मल हो गया तो वह सरकार की ओर से निर्माता कंपनी को गोल्ड मेडल देंगे. मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा जहां भी महाविद्यालय अथवा अन्य संस्थान खोले जा रहे हैं, वहां बजट का प्रावधान भी पहले किया जा रहा है.

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने पच्छाद के सराहां में 7.14 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित होने वाले औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान की आधारशिला रखी. मुख्यमंत्री ने राजकीय महाविद्यालय सराहां के निर्माणाधीन भवन का भी जायजा लिया और कहा कि निर्माण कार्य के लिए 17 करोड़ रुपए की प्रशासनिक स्वीकृति पहले ही दे दी गई है.

Share With:
Rate This Article