तिहाड़ जेल में छोटा राजन के साथ रहेगा शहाबुद्दीन

नई दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के बाद बाहुबली आरजेडी नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन को तिहाड़ जेल लाया गया। तिहाड़ की जेल नंबर-2 में शहाबुद्दीन को रखा गया है। इसी जेल में अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन भी बंद है। शहाबुद्दीन की निगरानी के लिए तमिलनाडु पुलिस की स्पेशल फोर्स को लगाया गया है, ताकि भाषाई दिक्कत के कारण उन्हें लालच न दिया जा सके। बता दें कि दिवंगत पत्रकार राजदेव रंजन की पत्नी और तीन बेटों को खोने वाले सिवान के चंद्रकेश्वर प्रसाद की पिटीशन्स पर सुप्रीम कोर्ट ने 15 फरवरी को शहाबुद्दीन को तिहाड़ ट्रांसफर करने का ऑर्डर दिया था।

तिहाड़ जेल पहुंचते ही शहाबुद्दीन के पसीने छूटे, पी गया कई गिलास पानी…

-शहाबुद्दीन के तिहाड़ पहुंचते ही पसीने छूट गए। उसकी ठसक नदारद हो गई।
– सीवान से लेकर पटना रेलवे स्टेशन और संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से लेकर सुबह आठ बजे नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर भी मौजूद समर्थक नारेबाजी करते रहे, लेकिन तिहाड़ पहुंचने पर शहाबुद्दीन के चेहरे पर हवाइयां उड़ रही थीं।
– एक जेल अफसर के मुताबिक, तिहाड़ पहुंचते ही शहाबुद्दीन कई गिलास पानी पी गया। सुप्रीम कोर्ट ने शहाबुद्दीन को आम कैदियों की तरह रखने के आदेश दिए हैं।
– जेल अफसरों ने कहा कि उसके लिए विशेष सुरक्षा का इंतजाम करते हुए आसपास के अन्य कैदियों की प्रोफाइलिंग करने के साथ उन पर नजर भी रखी जा रही है।
– एक पैसेंजर शिवशंकर ने बताया कि जैसे ही कोच में पुलिस एस्कॉर्ट शहाबुद्दीन को लेकर चढ़ा, उसके साथ नारेबाजी करते हुए समर्थक भी चढ़ गए। कोच में अफरातफरी मच गई। शोरगुल के बीच टीटीई भी कोच में पहुंचे।
– टिकट कन्फर्म नहीं होने के कारण चलती ट्रेन में टीटीई ने शहाबुद्दीन पर बिना टिकट सफर करने के लिए 440 रु. जुर्माना भी ठोक दिया।

शहाबुद्दीन 10 मामलों में दोषी करार
– सुप्रीम कोर्ट ने चंदा बाबू (तेजाब कांड में मारे गए तीन बेटों के पिता) और आशा रंजन (पत्रकार राजदेव रंजन की विधवा) की अपील की सुनवाई के बाद शहाबुद्दीन को दिल्ली भेजने का आदेश दिया है।
– बाहुबली नेता के खिलाफ 50 मामले लंबित हैं। इनमें से 9 मामले हत्या के हैं। इसके अलावा अपहरण और हत्या के प्रयास जैसे गंभीर मामले भी हैं।
– कोर्ट ने कुल 10 मामलों में शहाबुद्दीन को दोषी करार दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने कैंसल की थी जमानत
– 7 सितंबर, 2016 को पटना हाईकोर्ट ने तेजाब हत्याकांड के गवाह राजेश रोशन की हत्या की साजिश के आरोप में शहाबुद्दीन को जमानत दी थी।
– इसके बाद चंदा बाबू और आशा रंजन ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत रद्द करने की याचिका दायर की थी। बिहार सरकार भी इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गई थी।
– इस याचिका पर सुनवाई करते हुई सुप्रीम कोर्ट ने 30 सितंबर को शहाबुद्दीन की जमानत रद्द कर दी थी।
– इसके बाद शहाबुद्दीन ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। फिर उसे सीवान जेल में रखा गया था।

Share With:
Rate This Article