चीनी मीडिया ने कहा- भारत के रिकॉर्ड उपग्रह प्रक्षेपण से बढ़ गई है प्रतिस्पर्धा

पेइचिंग

चीनी अधिकारियों का मानना है कि भारत ने एक रॉकेट से रेकॉर्ड 104 सैटलाइट अंतरिक्ष में लॉन्च कर प्रतिस्पर्धा बढ़ा दी है. चीनी मीडिया के मुताबिक, उन्होंने सोमवार को कहा कि सैटलाइट लॉन्च टेक्नॉलजी को बढ़ावा देने के मामले में भारत ने चीन से अच्छा काम किया है और इससे पेइचिंग दुनिया के छोटे सैटलाइट बाजार में प्रतिस्पर्धा करने की दिशा में रॉकेट प्रक्षेपणों का व्यवसायीकरण तेज कर सकता है.

शंघाई इंजिनियरिंग सेंटर फॉर माइक्रोसैटलाइट्स के निदेशक जांग यांगी ने कहा, ‘व्यावसायिक अंतरिक्ष के बढ़ते बाजार के लिए चल रही वैश्विक दौड़ में देश की प्रतिस्पर्धात्मक क्षमता के बीच, इस प्रक्षेपण ने दिखाया है कि भारत अंतरिक्ष में कम खर्च में व्यवसायिक सैटलाइट भेज सकता है.’

ग्लोबल टाइम्स की ‘भारतीय उपग्रह प्रक्षेपण ने तेज की स्पेस में दौड़’ शीर्षक वाली रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी अधिकारियों ने कहा कि भारत की सफलता के बाद चीन अपने रॉकेट प्रक्षेपणों के व्यवसायीकरण को तेज कर सकता है.

जांग का मानना है कि भारत ने अपनी प्रक्षेपण सेवाओं को अंतरराष्ट्रीय तौर पर बढ़ावा देने में चीन से अच्छा काम किया है. चीन से पहले भारत के मंगल पर पहुंच जाने की बात को रेखांकित करने के साथ-साथ जांग ने पिछले सप्ताह भारत द्वारा एक ही रॉकेट के जरिए 104 उपग्रहों को कक्षा में स्थापित करने की सराहना की.

ग्लोबल टाइम्स की एक रिपोर्ट में कहा गया है, ‘बुधवार का प्रक्षेपण भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम की हालिया जीत है.’ बता दें कि इसरो के सफलतापूर्वक किए गए सैटलाइट लॉन्च करने के बाद चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ने कहा था कि इस उपलब्धि ने भारत को गौरवान्वित किया है, लेकिन यह भी कहा था कि इसका महत्व ‘सीमित’ है. वहीं, आज की रिपोर्ट में इसे भारत की जीत बताया गया है. जांग ने कहा कि भारत ने इस लॉन्च के साथ चीन, अमेरिका और रूस तीनों को पीछे छोड़ दिया है.

वहीं, शेनजेन ऐरोस्पेस डॉन्गफैनघांग के असिस्टेंट जनरल मैनेजर ने कहा कि भारत की तरफ से किया गया सैटलाइट लॉन्च सिर्फ संख्या के मामले में बड़ी उपलब्धि है, तकनीक के मामले में नहीं.

Share With:
Rate This Article