इरोम शर्मिला को केजरीवाल ने भेजे 50 हजार रुपए, तो भगवंत मान ने दी एक महीने की सैलरी

दिल्ली

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को सामाजिक कार्यकर्ता इरोम शर्मिला की पार्टी को चंदे के तौर पर 50,000 रूपये दिए है. इरोम मणिपुर से चुनाव लड़ रही हैं.

वहीं, पंजाब के संगरूर से आप के सांसद भगवंत मान भी अपने एक महीने का वेतन शर्मिला की पार्टी को दे रहे हैं. इस बारे में मान ने रविवार की सुबह जानकारी दी कि बतौर सांसद उन्हें मिलने वाला एक महीने का वेतन शर्मिला को देते हैं जो मणिपुर में ‘भ्रष्ट तंत्र’ और ‘अन्याय’ के खिलाफ लड़ रही हैं. सांसद को मिलने वाला वेतन करीब 2 लाख रुपये प्रति महीना होता है जिसमें बेसिक सैलेरी 50 हजार रुपये होती है.

धन और कार्यकर्ताओं की कमी से जूझ रही इरोम शर्मिला की पार्टी पीपुल्स रीसर्जन्स एंड जस्टिस एलायंस (पीआरजेए) ऑनलाइन चंदा एकत्र करने और लोगों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है.

केजरीवाल ने बताया कि वह इरोम शर्मिला को चंदा के रूप में 50,000 रूपये दे रहे हैं और ट्विटर पर लिंक साझा करने के दौरान लोगों से उनकी मदद करने की भी अपील की.

इरोम शर्मिला मणिपुर विधानसभा चुनाव थउबल सीट से मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह के खिलाफ लड़ रही हैं. शर्मिला ने अगस्त 2016 में अपनी भूख हड़ताल खत्म की थी. वह अपने समर्थकों के साथ साइकिल पर इंफाल से 20 किलोमीटर की दूरी तय करके थाउबल पहुंची थीं. वहां उन्होंने पर्चा भरा था.

पीआरजेए वैकल्पिक राजनीति के जरिये सूबे में प्रभाव कायम करने की कोशिश में जुटी है. वर्ष 2002, 2007 और 2012 में जीत हासिल करने वाले मणिपुर के तीन बार के मुख्यमंत्री इबोबी सिंह की निगाहें चौथी बार जीत हासिल करने पर होगी.

मणिपुर की 60 सदस्यीय विधानसभा के लिए चार और आठ मार्च को दो चरणों में चुनाव होना है. चुनाव के परिणाम 11 मार्च को घोषित किए जाएंगे. पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 42 सीटों पर जीत हासिल की थी और ओ इबोबी सिंह एक बार फिर से राज्य के मुख्यमंत्री बने थे.

Share With:
Rate This Article