इस बार नवरात्रों में दर्शन करने से पहले करना होगा ये काम, पढ़ें

कांगड़ा

नवरात्रों में श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने निर्णय लिया कि बज्रेश्वरी मंदिर में आने वाले यात्रियों को अब अपना पंजीकरण करवाना होगा। यह निर्णय वीरवार को ग्रीष्मकालीन नवरात्रों के दौरान यहां एस.डी.एम. कांगड़ा देवा श्वेता वानिक की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में लिया गया। एस.डी.एम. कांगड़ा ने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से ट्रस्ट की बैठक में यह निर्णय लेना पड़ा। उन्होंने बताया कि 27 मार्च से शुरू होने वाले ग्रीष्मकालीन नवरात्रों से पूर्व इस प्रक्रिया को आरंभ कर दिया जाएगा। इस प्रक्रिया में जहां मंदिर में आने वाले हर श्रद्धालु को पंजीकरण करवाना जरूरी होगा, वहीं मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं का रिकार्ड भी प्रशासन के पास रहेगा।

मंदिर के प्रवेश द्वार पर सूचना पट्टिका
एस.डी.एम. कांगड़ा ने बताया कि मंदिर के प्रवेश द्वार पर एक सूचना पट्टिका भी स्थापित की जाएगी, जिसके माध्यम से श्रद्धालुओं को पंजीकरण करवाने के बाद उन्हें माता के दर्शन के लिए कितना समय लगेगा और उनसे पहले कितने श्रद्धालु माता के दर्शनों को लाइन में खड़े हैं, के बारे जानकारी मिलेगी। नवरात्रों के दौरान यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अलग से आवासीय सुविधा मुहैया करवाने के साथ पार्किंग की व्यवस्था व स्वास्थ्य एवं स्वच्छता बारे भी चर्चा करने के साथ-साथ नवरात्रों के दिनों में पूरा दिन लंगर सुचारू रखने बारे निर्णय लिया गया। इसके अलावा श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए उपसमितियों का गठन भी किया गया।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य की मांग पर मुहर
बैठक के दौरान मंदिर ट्रस्ट के सदस्य मुनीष कांसरा की मांग जिसमें मंदिर सराय के बाहर खाली कमरों की सूची लगाने और देर रात पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को मंदिर में तैनात कर्मियों द्वारा कमरे उपलब्ध करवाए जाने पर मंदिर प्रशासन ने मुहर लगा दी है। बैठक में तहसीलदार कांगड़ा प्रेम लाल शर्मा, डी.एस.पी. कांगड़ा सुरेंद्र शर्मा, नगर परिषद की कार्यकारी अधिकारी कंचन बाला, एस.एम.ओ. कांगड़ा डा. गुरुदर्शन, ट्रस्ट के सदस्य सुमन वर्मा, श्याम नारायण, मुनीष कांसरा मन्नू, छाया मनकोटिया, वेद प्रकाश शर्मा, त्रिलोक भट्ट व नरेंद्र त्रिवेदी उपस्थित थे।

दर्शन करने वालों के बनेंगे पास
एस.डी.एम. कांगड़ा ने बताया कि इस योजना के बाद श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी नहीं होगी और इस योजना में स्थानीय लोग जो रोजाना माता के दर्शनों को जाते हैं उनके अलग से पास बनाए जाएंगे ताकि उन्हें रोजाना पंजीकरण के लिए लाइन में न लगना पड़े। उन्होंने बताया कि इसके अलावा प्रशासनिक, मंदिर ट्रस्ट व मीडिया को भी पास जारी किए जाएंगे। देवा श्वेता वानिक ने बताया कि आगामी नवरात्रों में श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए स्थानीय प्रशासन व मंदिर प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय है।

Share With:
Rate This Article